हिन्दू धर्म में त्रिमूर्ति अर्थात मुख्य 3 देवता हैं, जो सृजन, संरक्षण और विनाश का मुख्य कार्य करते हैं। इसमें ब्रह्मा को सृष्टि का निर्माता, विष्णु को रक्षक या पालनहार और शिव को संहारक या विनाश का देवता कहा जाता है। दत्तात्रेय अवतार त्रिमूर्ति का अवतार है। त्रिमूर्ति की अवधारणा प्राचीन पुराणों में भी मौजूद है।

मंदिर:-

त्रिमूर्ति को समर्पित मंदिरों को देखने के लिए आप निम्न जगह जा सकते हैं:-

1. बरौली त्रिमूर्ति मंदिर
2. एलीफेंटा की गुफाएं
3. मिथ्रान्थपुरम त्रिमूर्ति मंदिर
4. प्रम्बान मंदिर
5. सावदी त्रिमूर्ति मंदिर
6. थृप्रया त्रिमूर्ति मंदिर

सौरम : सूर्या संप्रदाय केवल सूर्य को सर्वोच्च व्यक्तित्व के रूप में पूजता है। वे सूर्य को ही 3 मुख्य देवता ब्रह्मा, विष्णु और शिव मानते हैं। कुछ सौर या तो विष्णु या ब्रह्मा या फिर शिव की पूजा करते हैं लेकिन कुछ विशेष रूप से केवल सूर्य की ही पूजा करते हैं।

शैववाद : शैव मतावलंबी के अनुसार शिव 5 मुख्य क्रियाएं करते हैं। उनके अनुसार ब्रह्मा, विष्णु और रुद्र, शिव के रूप हैं। शैव लोगों के लिए शिव ही एकमात्र भगवान हैं, जो सभी कार्यों को करते हैं और ब्रह्मांड की रक्षा करते हैं। शैव लोग मानते हैं कि भगवान शिव सर्वोच्च देव हैं।

शक्तिवाद:
शाक्त मत में स्त्री देवी को त्रिदेवी कहा जाता है:- महासरस्वती (निर्माता), महालक्ष्मी (पालक) और महाकाली (विनाशक)। शक्तिवाद के अनुयायियों के अनुसार वे मानते हैं कि त्रिदेवी मुख्य देवी हैं और वे केवल उनकी पूजा करते हैं।

कुमारम : कुमारम संप्रदाय के लोग केवल भगवान मुरुगा की पूजा करते हैं और वे उन्हें अन्य देवताओं के बीच एक सर्वोच्च देवता मानते हैं। उनमें से कुछ शिव, विष्णु, ब्रह्मा और सूर्य जैसे अन्य देवताओं की पूजा करते हैं जबकि उनमें से कई केवल भगवान मुरुगा की पूजा करते हैं। मुरुगा को मुरुगन भी कहते हैं, जो कार्तिकेय हैं।

स्मृतिवाद : स्मार्त संप्रदाय में केवल एक देवता के बजाय 5 देवताओं के समूह (पंचदेव) पर जोर दिया जाता है, जो गणेश, विष्णु, ब्रह्मा, देवी और शिव हैं। शंकराचार्य ने बाद में इन पंचदेव समूह में कार्तिकेय को भी शामिल किया जिससे 6 कुल बने।

वैष्णववाद : आमतौर पर वैष्णववादी त्रिमूर्ति की अवधारणा को स्वीकार नहीं करते हैं, लेकिन वे बुद्ध, राम, कृष्ण, आदि जैसे विष्णु के अवतार में विश्वास करते हैं। वे यह भी मानते हैं कि शिव और ब्रह्मा दोनों ही विष्णु के रूप हैं।

निष्कर्ष : अत: त्रिमूर्ति पूजा विभिन्न संप्रदायों और लोगों के विभिन्न समूहों के बीच भिन्न हो सकती है। लेकिन इन सभी में दैवीय शक्तियां समाहित हैं।

एक-दूसरे में अंतर करने के बजाय आइए हम पूरी निष्ठा से सभी त्रिमूर्ति और त्रिदेवी और भगवान विनायक, मुरुगा, अयप्पन और सूर्यदेव की पूजा करें (जो हमें दैनिक ऊर्जा प्रदान कर रहे हैं और इस दुनिया में जीवित रहने में हमारी मदद करते हैं) और अन्य सभी देवता जैसे इंद्र, वरुण, वायु, अग्नि, यम, निरुधि, अश्विनी देव, पितृ देवता और देवता, संत, ऋषि, ऋषि पाथिनी के (ऋषियों की पत्नियां) और स्वर्ग में स्थित सभी देवी-देवता और अन्य 33 करोड़ देवता सभी दिव्य हैं।

आइए हम सभी इन दिव्य देवी और देवताओं के लिए, हमारी और पूरी दुनिया की भलाई के लिए निष्ठा से प्रार्थना करें। आइए हम मंत्र 'ओम' का जाप करें और धन्य हो और हमेशा के लिए खुश रहें।