साइबर सिटी गुरुग्राम में अजगर की दहशत कुछ इस कदर चढ़ी कि देश के सैनिकों को स्नेक रेस्क्यू टीम को बुलाना पड़ा. यहां के भोंडसी इलाके स्थित बीएसएफ कैम्प में हर वक्त हजारों की संख्या में जवान रहते हैं. यहां घुस आए अजगर ने सेना के एक अधिकारी के घर में रह रहे तीन पालतू खरगोशों को निगल लिया.
पकड़े गए सात फुट लंबे इस अजगर को इंडियन रॉक पाइथन कहते हैं. सेना के अधिकारी ने जब खरगोशों की हालत देखी तो हड़बड़ाहट में उन्होंने सांप को पकड़ने की बजाय स्नेक रेस्क्यू टीम को फोन कर बुला लिया.  
बीएसएफ कैंप पहुंचकर गुरूग्राम स्नेक रेस्क्यू टीम ने अजगर को पकड़ लिया जिसके बाद आसपास रहने वालों ने राहत की सांस ली. गनीमत यह रही कि अजगर ने पकड़े जाने के दौरान किसी इंसान को नहीं काटा और ना ही किसी पर हमला किया.
इस घटना से सवाल खड़ा होता है कि जो सैनिक सीमा पर देश की रक्षा करते हैं, उनको अपनी ट्रेनिंग के दौरान सांप को पकड़ना भी सिखाया जाता है. मगर फिर भी जवानों को गुरुग्राम रेस्क्यू टीम को बुलाने की जरूरत पड़ी.  
अजगर विषैला नहीं होता. यह विषहीन सांप होता है. मगर इसमें मुंह में छोटे और तेज दातों की कतार होती है जो किसी को भी गंभीर रूप से जख्मी कर सकता है.