आजकल आधुनिक जीवनशैली में काम के बढ़ते दवाब के बीच ही पिछले कुछ सालों में ग्रीन टी पीने का चलन तेजी से बढ़ा है। एक नियत मात्रा में प्रतिदिन ग्रीन टी का सेवन आपकी सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद रहता है। कई शोध में भी ग्रीन टी सेहत के लिए फायदेमंद बताई गई है पर जरूरत से ज्यादा ग्रीन टी भी आपके शरीर को नुकसान भी पहुंचा सकती है, इसलिए जरूरी है कि आप संतुलित मात्रा में ही ग्रीन टी का सेवन कों। 
त्वचा में चमक
ग्रीन टी में एंटी एजिंग तत्व पाया जाता है, इसका सेवन करने से चेहरे की झुर्रियां कम होती है। इसके साथ ही आपके चेहरे पर हमेशा चमक और ताजगी बनी रहती है। इसके अलावा इसे पीने से आप तरोताजा रहते हैं।
मानसिक शांति
यदि आप कुछ काम करने के बाद मानसिक रूप से थकान महसूस करने लगते हैं तो ग्रीन टी आपके लिए अच्छी रहेगी। ग्रीन टी में थेनाइन तत्व होता है, जिसमें एमिनो एसिड बनता है। एमिनो एसिड शरीर में ताजगी बनाए रखता है और आपको थकावट महसूस नहीं होती जिससे आपको हमेशा मानसिक शांति मिलती है।
दांतों के लिए लाभकारी
आजकल युवा और बुजुर्गों में दांतों में पायरिया और केविटी की समस्या तेजी से बढ़ रही है। ग्रीन टी में पाया जाने वाले कैफीन दांतों में लगे कीटाणुओं को मारने में सक्षम होता है। बैक्टीरिया कम होने से आपके दांत लंबे समय तक सुरक्षित रहते हैं।
ब्लडप्रेशर रहता है सामान्य 
भागदौड़ भरी जिंदगी के कारण उच्च रक्तचाप शरीर में अन्य कई बीमारियों का कारण हो सकता है। इसलिए यदि आपको ब्लड प्रेशर की समस्या है तो ग्रीन टी पिए। इसे पीने से रक्तचाप सामान्य रहने से आपको गुस्सा भी नहीं आएगा।
कोलेस्ट्रॉल घटाएं
दिल के रोगियों के लिए ग्रीनटी का सेवन बहुत फायदेमंद साबित होता है। ग्रीन टी शरीर में बेड कोलेस्ट्रॉल को कम करके गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मददगार होती है। यदि आप भारी भोजन करते हैं तो आपको नियमित रूप से ग्रीन टी का सेवन करना चाहिए।
मधुमेह में फायदेमंद
यदि आपके शरीर में शुगर लेवल बढ़ रहा है तो ग्रीन टी का सेवन आपको बहुत फायदा पहुंचाएगा। इसके अलावा जिन रोगियों को डायबिटीज (मधुमेह) की बिमारी हैं तो उन्हें प्रतिदिन सुबह उठकर एक कप ग्रीन टी पीनी चाहिए। इससे आपके शरीर में मौजूद शुगर का लेवल कंट्रोल में रहेगा। मधुमेह रोगियों को भोजन के बाद ग्रीन टी का सेवन करना चाहिए।
मोटापा कम करे 
वजन कम करने में ग्रीन टी काफी हद तक सहायक है। ग्रीन टी पीने से आपके शरीर का मेटाबॉलिज्म बढ़ता है, जिससे पाचन क्रिया संतुलित रहती है। ऐसा होने से व्यक्ति का अतिरिक्त वजन कम होता है।