कई बार माता-पिता बच्चों को बेहतर बनाने के लिए उन्हें छोटी से छोटी गलती पर सजा देने लगते हैं। जो ठीक नहीं है बच्चों को बच्चा ही रहने दें उन्हें सुपर किड बनाने के फेर में न रहें। हममें से शायद ही कोई ऐसा हो जिसने अपने बचपन में सामान फैलाने, स्कूल में पेंसिल बॉक्स खोने या खिलौने तोड़ देने जैसी तमाम गल्तियां न की हों। हमें समझना होगा कि बच्चे, बच्चे होते हैं और उनमें हमारी तरह हर बात की अच्छाई-बुराई की समझ नहीं होती इसलिए जरूरी है कि बच्चे को डांटने के बजाय उसके बर्ताव को अच्छी तरह से समझें, उसकी गलती के लिए उसे प्यार से समझाएं और उसकी गलती का अहसास दिलाएं जिससे बच्चा ऐसी गलती दुबारा करने से बच सके। 
बच्चों को छोटी-छोटी गल्तियों की सजा देना भी हमेशा ठीक नहीं होता। कई बार ऐसा करना विपरीत असर भी करता है।
आईए जानें कि बच्चों को हर छोटी गलती पर सजा देना कैसे खतरनाक हो सकता है।
बच्चों के छोटी-छोटी गल्तियों पर सजा देने के दुष्प्रभाव
बच्चे में बुरी भावना को जन्म देता हैः बार-बार सजा देने से बच्चे के अंदर आपके लिए बुरी भावना आ सकती है और हो सकता है कि वह आपसे नफरत करने लगे।
बच्चा ढीठ हो जाता हैः बार-बार उसे डांटने, मारने-पीटने पर बच्चा खुद को इसके लिए दिमागी रूप से तैयार कर लेता है और फिर जरूरी नहीं कि वह आपकी हर बात मानें।
बच्चा बागी हो सकता हैः बच्चे को सजा देना उसके बर्ताव को बागी बनाने के साथ आक्रामक भी बना देता है। वह आपको पलट कर जबाब दे सकता है।
बच्चे को चिढ़चिढ़ा और जिद्दी बना देता हैः बच्चा छोटी-छोटी बातों पर चिढ़चिढ़ाने लगता है और अपनी बात मनवाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है।
बच्चे में डर या फोबिया पैदा करता हैः कुछ बच्चों का दिमाग कोमल होता है। ऐसे बच्चों को बार-बार डांटने या मारने-पीटने से उनके दिमाग पर बड़ा अघात लगता है और बच्चे डर या फोबिया के शिकार हो जाते हैं। यह डर या फोबिया उनके मन में घर कर लेता है जो उनके दिमागी विकास को रोक सकता है।
बच्चे में हीन भावना पैदा करता हैः बच्चे को दूसरे भाई-बहन के सामने या उसके दोस्तों के सामने सजा देना उसके अंदर हीन भावना पैदा कर देता है जिससे वह दब्बू होने लगता है और घर के बाहर दोस्तो-यारों के साथ या दूसरों लोगों के साथ होने पर असहज महसूस करता है।
क्या सजा देना ही एक मात्र रास्ता है?
जरूरी नहीं की बच्चे को हर गलती या उसकी छोटी से छोटी गलती के लिए सजा दी जाए इसलिए सजा देने से पहले विचार करें कि क्या यह वाकई जरूरी है और ऐसा करने से क्या आपके नुकसान की भरपाई हो सकती है।