अमित शाह ने सभा में आए लोगों से इस कदम का विरोध करने वाले लोगों से सवाल पूछने और इस ऐतिहासिक फैसले को उनके गांवों के हर घरों में फैलाने का आग्रह किया. अब, हमने दबे कुचले वर्गो की प्रगति और समृद्धि के लिए कई कदम उठाए हैं.
    अमित शाह ने बीड में रैली को किया संबोधितबोले-हमने देश को एकजुट करने का काम किया

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को महाराष्ट्र के बीड में चुनावी जनसभा को संबोधित किया. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाकर देश को एकजुट करने का ऐतिहासिक कदम उठाया है. अमित शाह ने कहा कि आपने हमें लोकसभा में 300 सीटें दी, हमने जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाया और कश्मीरियों को देश की मुख्यधारा में लेकर आए.

उन्होंने सभा में आए लोगों से इस कदम का विरोध करने वाले लोगों से सवाल पूछने और इस ऐतिहासिक फैसले को उनके गांवों के हर घरों में फैलाने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि अब हमने दबे कुचले वर्गो की प्रगति और समृद्धि के लिए कई कदम उठाए हैं.

वंजारी समुदाय के महान संत के योगदान को याद करते हुए, बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि यह संत भगवान बाबा का आशीर्वाद है कि चुनाव के बाद महाराष्ट्र में उन्होंने अपना पहला संबोधन दशहरा के अवसर पर भगवानगढ़ में दिया. 2014 के बाद भगवानगढ़ के दूसरे दौरे पर अमित शाह ने कहा कि वह राजनीतिक भाषण नहीं देंगे, बल्कि बुराई पर अच्छाई की जीत के अवसर पर दशहरा त्योहार के दौरान लोगों को शुभकामनाएं देंगे.

इससे पहले अमित शाह का भगवान बाबा के जन्मस्थान- स्वरगांव में भव्य स्वागत किया गया, जहां उन्होंने मुंडे बहनों द्वारा मंगलवार को आयोजित कार्यक्रम में भाग लिया. अमित शाह का स्वागत महाराष्ट्र सरकार में मंत्री पंकजा मुंडे, उनकी बहन और सांसद प्रीतम मुंडे और अन्य लोगों के साथ-साथ जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाने के प्रतीक के रूप में 370 तिरंगा झंडा लेकर आए लोगों ने किया.

महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष हरिभाऊ बागडे और अन्य विशिष्ट अतिथियों की उपस्थिति में मंच पर उन्होंने श्रद्धेय संत भगवान बाबा की तस्वीर की आरती उतारी और उसके बाद पारंपरिक फेटा (पगड़ी) पहना. अमित शाह यहां विशेष रूप से मुंडे बहनों द्वारा आयोजित वार्षिक दशहरा रैली में शामिल होने आए थे. यह जिला पूर्व केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे के परिवार का गढ़ है.