इलाहाबाद

इलाहाबाद से 2016 में सीबीएसई बोर्ड से 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले एक लाख लोगों में से आर्जव जैन ने विशेष स्थान हासिल किया है। बोर्ड ने खुद आर्जव के नाम का विशेष उल्लेख किया है।

दिल्ली पब्लिक स्कूल,आजादनगर (कानपुर) के विद्यार्थी आर्जव जन्म से ही नेत्रहीन हैं। उन्होंने इलाहाबाद में पहली बार जॉज़ सॉफ्टवेयर की मदद से बोर्ड परीक्षा दी थी। आर्जव ने 12वीं की बोर्ड परीक्षा में 95.40% अंक प्राप्त किए।

इलाहाबाद के सीबीएसई के क्षेत्रीय अधिकारी पियूष कुमार शर्मा ने कहा, कि आर्जव पर बोर्ड को गर्व है। इससे पहले हम विकलांग विद्यार्थियों को मदद के लिए उनकी जगह पर कोई लिखने वाला व्यक्ति उपलब्ध करवाते थे, पर तब कभी इतनी बड़ी सफलता नहीं मिली थी।


पियूष ने कहा कि सीबीएसई ने जो दृष्टिबाधित विद्यार्थियों के लिए जो सॉप्टवेयर सिस्टम शुरू किया आर्जव उसका ऐंबैसेडर बन चुका है। इसस पहले आर्जव को 2014 में 10वीं की परीक्षा में 10 में से 10 ग्रेड मिले थे। आर्जव आगे चलकर सिविल सर्विस की परीक्षा को उत्तीर्ण करना चाहता है।

जीरो विजन के साथ भी इस लड़के ने अपने स्कूल में सबको पछाड़ दिया। आर्जव को संगीत में भी खासी रुचि है। वह सुबह और शाम शास्त्रीय संगीत और रागों का रियाज़ करते हैं।

राजीव जैन और प्रज्ञा जैन के बेटे आर्जव ने प्रयाग संगीत समीति इलाहाबाद से संगीत में सात साल उत्तीण कर लिए हैं। भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रति आर्जव का पूरा समर्पण है, उन्हें संगीत नाटक अकादमी से इनाम भी मिल चुका है।