इलाहाबाद के कौंधियारा थाना क्षेत्र एटौनी गांव रविवार की रात पांच हत्याओं से दहल गया. पारिवारिक रंजिश के चलते दोनो पक्षों में जमकर फायरिगं हुई, जिसमें पांच लोगो की मौत हो गई जबकि एक घायल है.

मरने वालों में पुलिस में कार्यरत एक सब इंस्पेक्टर औऱ एक रिटायर सब इंस्पेक्टर के साथ ही सीआरपीएफ के एक रिटायर जवान समेत एक नवनियुक्त शिक्षक भी था.

बता दें राम सेवक और राम कैलाश के परिवार में सालों से चली आ रही पुरानी रंजिश ही इस घटना के पीछे की वजह बतायी जा रही है. वहीं, घटना के बाद गांव में आईजी डीआईजी समेत जिले भऱ के आलाधिकारी मौके पर पहुंच गये. पुलिस ने सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. साथ ही घटना के बाद से पूरे गांव को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है. एहतियात के तौर पर गांव में कई थानों की फोर्स तैनात कर दी गई है.

फिलहाल घटना के बाद पुलिस ने दोनों पक्षों के घरों में दबिश देकर घटना में शामिल होन के आरोप में छः लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.

रविवार की शाम कौंधियारा थाना क्षेत्र के एटौनी गांव राम कैलास के घर के सामने बने पुस्तैनी मंदिर के बगल में राम सेवक का परिवार भी नये मंदिर का निर्माण करा रहा था. जिसको लेकर दोनो के बीच विवाद हुआ. मारपीट के बाद दोनों तरफ से लाठी डंडे चलने लगे जिसमें राम कैलाश और सुरेश पान्डेय घायल हो गये. जिसके बाद कानपुर में तैनात दरोगा सुरेश ने असलहे से कई राउन्ड फायरिंग की जिसमें शिवसेवक, कृष्णसेवक और विमल की मौत हो गई. जिसके बाद मृतको के परिवार वालो नें जवाबी फायरिंग की जिसमें दरोगा सुरेश और रामकैलाश की मौत हो गई.

घटना के दौरान रामसेवक बुरी तरह से जख्मी हो गया जिसका इलाज अस्पातल में चल रहा है.

बताया जा रहा है कि इन दोनों परिवारों के बीच पटीदारी का विवाद कई सालों से चला आ रहा है. रविवार शाम दोनो पक्षों के बीच मंदिर निर्माण को लेकर कहासुनी हुई और देखते-देखते लाठी डंडे चलने लगे. इस पारिवारिक रंजिश में पांच लोगो की जान चली गई. घटना के बाद दोनों ही परिवार में मातम छा गया है. परिवार की महिलाओं और बच्चों का घटना के बाद से रो रोकर बुरा हाल है.