इलाहाबाद। शहर के सादियाबाद बघाड़ा स्थित एमए कांवेंट स्कूल के प्रबंधक जिया उल हक को रविवार देर रात गिरफ्तार कर लिया गया। शासन के सख्त रुख को देखते हुए प्रशासन ने प्रबंधक के खिलाफ राष्ट्रद्रोह के आरोप में कार्रवाई की है। देर रात कर्नलगंज पुलिस ने केस दर्ज कर लिया।

बिना मान्यता के 21 साल से संचालित इस स्कूल को सोमवार को सीज किया जाएगा। यहां पढ़ रहे बच्चों को दो दिन के भीतर दूसरे स्कूल में शिफ्ट किए जाने की बात प्रशासन ने कही है।

स्कूल प्रबंधक जियाउल हक ने स्कूल में स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर राष्ट्रगान के रिहर्सल को अनुमति नहीं दी थी। इस पर प्रधानाध्यापिका समेत आठ शिक्षिकाओं ने शिकायत की और स्कूल जाना छोड़ दिया। यह बात मीडिया में सुर्खी बनी तो शासन ने सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया। शनिवार को बीएसए ने कहा था कि स्कूल को मान्यता नहीं है। उन्होंने अपनी रिपोर्ट डीएम को सौंपी थी।

अभिभावकों के विरोध और क्षेत्र में तनाव बना तो शासन ने जिला प्रशासन को सख्त कार्रवाई का आदेश दिया। प्रभारी डीएम आंद्रा वामसी ने रविवार रात नौ बजे मीडिया को बताया कि स्कूल प्रबंधक की गतिविधियां राष्ट्र विरोधी हैं। इसलिए उसके खिलाफ राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज कराया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि जिया उल हक 1995 से बिना मान्यता स्कूल चला रहे थे। इसे लेकर भी मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। प्रभारी डीएम ने सोमवार को स्कूल को सीज किए जाने की भी जानकारी दी। साथ ही मजिस्ट्रेटी जांच कराने की बात भी कही।

आमने- सामने आए समर्थक, क्षेत्र में तनाव

यह मामला रविवार को भी गर्माया रहा। शाम को प्रबंधक जिया उल हक को स्कूल के बाहर देख स्थानीय लोग भड़क उठे। अभिभावकों के साथ ही कुछ संगठनों के लोगों ने अपशब्द कहे तो दूसरे पक्ष से भी लोग जमा हो गए। हाथापाई भी हुई।

खबर मिलते ही फोर्स पहुंच गई। गुस्साए लोगों को किसी तरह शांत कराया गया। इलाके में तनाव व्याप्त है। प्रबंधक के रवैये से नाराज अभिभावकों ने शनिवार को भी प्रदर्शन किया था। रविवार शाम करीब पांच बजे कुछ लोगों ने प्रबंधक जिया उल हक को स्कूल के पास बुलाया था। इसी दौरान कई अभिभावक भी पहुंच गए और सवाल जवाब करने लगे।

प्रबंधक की तरफ से भी कुछ लोग आ गए और विवाद होने लगा। देखते ही देखते दोनों तरफ से लोग जुट गए। सूचना मिलते ही सीओ कर्नलगंज डीपी तिवारी कई थाने की फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। एसपी क्राइम रमाकांत प्रसाद, एसपी सिटी राजेश यादव भी पहुंचे। हंगामा कर रहे लोगों को लाठी पटककर खदेड़ा गया। इसी मसले पर हिदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने रविवार दोपहर चंद्रलोक चौराहे पर शिक्षा मंत्री का पुतला फूंका।