भारी बारिश के चलते सोमवार को राजस्थान के कोटा बैराज के 14 गेट खोले गए हैं.

कोटा बैराज से करीब ढाई लाख क्यूसेक पानी चंबल नदी में छोड़ा जा रहा है. पानी छोड़े जाने के बाद आगे के इलाकों में भी अलर्ट जारी किया गया है. नदी किनारे की बस्तियों को खाली करने की सलाह दी गई है.

लगातार बारिश के बाद कोटा बैराज के साथ ही जवाहरसागर और राणाप्रताप सागर जैसे हाड़ौती अंचल के बड़े बांध पानी से लबालब हो गए हैं. इधर दोनों ही बांधों के गेट खोलने के बाद कोटा बैराज का जलस्तर भी खतरनाक स्तर तक बढ़ गया हैं,जिसके चलते बैराज के 14 से 15 गेट तक खोलकर भारी जल निकासी की जा रही हैं.

फिलहाल करीबन ढाई लाख क्यूसेक पानी नदी में छोड़ा जा रहा हैं,जिसके चलते चंबल नदी का जलस्तर बढ़ रहा हैं और आगे के इलाकों के लिए अलर्ट जारी किया गया हैं. इधर, कोटा एसपी सवाई सिंह गोदारा ने भी जिले की पुलिस को सतर्क रहने के लिये कहा हैं औऱ आगे के लिए अलर्ट जारी करते हुए संबंधित पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों से भी बात की हैं.

स्कूलों की छुट्‌टी, तटीय इलाकों में मुनादी:

पानी की भारी आवक के चलते कोटा बैराज से पानी की निकासी जारी है. इससे निचली बस्तियों में पानी भराव की स्थिति बन गई है. नगर निगम की टीम अब यहां से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए मुनादी कर रही है. किनारे पर बसी दो दर्जन से अधिक कॉलोनियां इस से प्रभावित हो रही हैं. लगातार बारिश के बाद आज कई निजी स्कूलों ने दी बच्चों को राहत देते हुए अवकाश की घोषणा की है. यहां सिर्फ अध्यापकों को बुलाया गया है.