कानपुर। कड़ाके की ठंड और सर्द तेज हवाओं से बचने के लिए उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) और दिल की बीमारी से पीड़ित लोग थोड़ा एलर्ट रहें क्योंकि यह मौसम उनके लिये काफी खतरनाक साबित हो सकता है । शरीर को गर्म रखने के लिए दो पैग व्हिस्की या रम न पियें या किसी भी प्रकार की शराब से दूर ही रहें तो उनकी सेहत के लिए अच्छा है। कानपुर समेत सारे उत्तर भारत में अचानक सर्दी का प्रकोप बढ़ गया है । गौरतलब है कि कल रात कानपुर का न्यून्तम तापमान 10 प्वाइंट 7 डिग्री तक गिर गया था।

डाक्टरों का मानना है कि इस समय पड़ रही ठंड उच्च रक्तचाप के मरीजों और दिल की बीमारी से ग्रस्त मरीजों के लिए परेशानी का कारण बन सकती है इसलिए सर्दी से तो बचाव करें ही साथ ही साथ खानपान पर भी ध्यान दें और तेल और मक्खन से बने खादय पदार्थों से पूरी तरह बचें। हो सके तो रोज व्यायाम करें लेकिन सूरज निकलने के बाद मॉर्निंग वॉक पर जाएं।

उनका कहना है कि इसके अलावा इस मौसम में शराब का इस्तेमाल तो कतई न करें क्योंकि व्हिस्की और रम के दो पैग उस समय तो उनकी ठंड कम कर देंगे लेकिन इससे उनका ब्लड प्रेशर भी अचानक बढ़ जाएगा और ब्लड शुगर में भी अचानक बढ़ोत्तरी हो जाएगी। इस मौसम में ऐसे रोगी एक बार अपने डॉक्टर से मिलकर अपनी दवाओं पर जरूर चर्चा कर लें। ऐसा करना उनके लिये लाभप्रद ही होगा और हो सके तो डाक्टर के संपर्क में लगातार रहें ।

संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (पीजीआई) के कार्डियोलोजी विभाग के प्रोफेसर सुदीप कुमार ने बताया कि सर्दियां बच्चों और बुजुर्गों के लिए तो खतरनाक होती है लेकिन उन लोगों के लिए सबसे अधिक परेशानी का कारण बनती है जो कि हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हों या दिल की किसी बीमारी से पीड़ित हों ।