उदयपुर के रोडवेज बस अड्डे की बदहाली को देख यहां शुरू हुए सफाई अभियान ने इसकी सूरत ही बदल डाली है.

शनिवार को शहर के विभिन्न स्कूलों के करीब 600 बच्चों ने बस अड्डे की सफाई की कर यात्रियों में स्वच्छता के प्रति जागरुकता लाने की कोशिश की.

उदयपुर के रोडवेज बस स्टैंड का नजारा शनिवार को कुछ अलग ही नजर आया. बस स्टैंड पर यात्रियों के साथ ही सैकड़ों स्कूली बच्चों की फौज थी जो अपने हाथ में झाड़ू लिए बस स्टैंड की सफाई में जुटे हुए थे.

दरअसल, विवेकानन्द स्वच्छता पखवाड़े के तहत सफाई करने पहुंचे इन बच्चों ने आमजन में स्वच्छता के प्रति जागरूकता लाने की कोशिश की. साथ ही बस स्टैंड की काया पलट कर उसे खूबसूरत बना दिया.

दस दिनों से चल रहे इस सफाई अभियान में स्कूली बच्चों की रुची देख वहां मौजूद हर व्यक्ति तारीफ करने से नहीं चूक रहा था. बच्चों ने भी अपने मन में स्वच्छता के प्रति एक ललक पैदा करते हुए बस स्टैंड पर आए सभी यात्रियों से सफाई रखने की अपील की और उसी के साथ पूरे परिसर का झाड़ू निकालते हुए यात्रियों के बैठने की बेंच और खंभे तक साफ कर डाले.

रोडवेज बस स्टैंड को पिछले दस दिनों में पूरी तरह से स्व्च्छ रखने के लिए कई संगठन भी आगे आए और करीब 70 ट्रक कचरा बस स्टैंड से डंप किया गया. बस स्टैंड को साफ रखने के लिए अब प्रबंधन ने भी तैयारी कर ली है और आगामी समय में यहां की सफाई मशीन से की जाए इसके भी प्रयास किए गए हैं.

बस स्टैंड पर चल रहे सफाई अभियान में रोडवेज ने भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. इस दौरान बस स्टैंड पर यात्रियों को सुरक्षित और साफ वातावरण मिले उसे लेकर रोडवेज ने असामाजिक गतिविधियां करने वाले लोगों के चालान बनाते हुए करीब 13 हजार रुपए का राजस्व भी इक्ट‌्ठा किया है.