भिलाई में डॉक्‍टर की लापरवाही से एक बच्‍चे का जीवन खतरे में पड़ गया है. घटना यहां सेक्टर 9 अस्पताल में एक 10 वर्षीय बच्चे के साथ घटी है. डॉक्टरो की लापरवाही के कारण बच्‍चे को एचआईवी संक्रमित खून चढ़ा दिया गया. बच्चे को थैलीसिमियां नाम की बीमारी है जिसके कारण उसे हर माह खून चढ़ाया जाता था. लगभग 9 माह पहले जब बच्चे की जांच हुई तो तो उसे एचआईवी पाजीटिव पाया गया.

इसका अर्थ यह हुआ कि उसे एड्स हो सकता है.एचआईवी पॉजिटिव होना एड्स उसके बाद बच्चे के पिता ने इस मामले में सेक्टर 9 अस्पताल के प्रबंधन और जिला कलेक्टर सहित हर स्‍तर पर शिकायत की लेकिन कोई कार्रवाई नही हुई.

सेक्टर का जवाहर लाल नेहरू अस्पताल सेल के भिलाई स्‍टील प्‍लांट के तहत आता है. इसी कारण पीड़ित के पिता ने सेल आफिस दिल्ली व प्रदेश के मुख्‍यमंत्री ने इस मामले में जांच कराने आवेदन दिया. मुख्‍यमंत्री रमन सिंह ने इस मामले में पीड़ित परिवार का एसपी से पक्ष जानकर जांच करने की बात कही है.

एसपी अमरेश मिश्रा के आदेश पर एएसपी राजेश अग्रवाल इस मामल में जांच कर रहे हैं. जांच के बाद सेक्टर 9 के दोषी डॉक्टरों पर कार्रवाई होगी. पीड़ित के पिता ने बयान दिया है कि उसके बच्चे का इलाज सेक्टर 9 के आलावा कहीं नहीं हुआ है. इसी कारण सेक्टर के डॉक्टर ही इस मामले में दोषी हैं.