वैलेंटाइन डे को कवर्धा में एक प्रेमी जोड़े ने फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली. प्रेमी ने अपनी प्रेमिका के साथ अपने मामा के सूने मकान में इस कृत्‍य को अंजाम दिया. एक सप्ताह पहले ही लड़की की सगाई हुई थी. सगाई के बाद से दोनों बहुत परेशान थे. लड़की 12 वीं की छात्रा थी, जिसकी आज परीक्षा थी. दोनों साथ जीना चाहते थे लेकिन लड़की के घर वाले उनकी शादी के खिलाफ थे.

बताया जाता है कि इसी वजह से वैलेंटाइन डे को इस प्रेमी युगल ने बहुचर्चित वाक्‍य 'साथ जी नहीं सकते तो साथ मर तो सकते हैं' पर अमल किया. प्रेमी ने गमछे से व लड़की ने अपने दुपट्टे से फांसी लगाई.

दोनों एक ही गांव के थे और अलग-अलग जाति के थे. इसी वजह से लड़की के परिवार वाले शादी के लिए राजी नहीं थे. लड़के के घर में अपना कहने के लिए सिर्फ उसके मामा-मामी ही थे. उसके माता-पिता की बहुत पहले मौत हो चुकी गई थी. लड़की के घरवालों ने उसकी मर्जी के खिलाफ एक सप्ताह पहले ही उसकी सगाई की थी.

बताया जा रहा है कि दोनों सोमवार की दोपहर में गांव से निकले थे. दिनभर घूमे-फिरे, शाम को कवर्धा नवीन बाजार स्थित अपने मामा के सुने मकान का ताला तोड़कर घुसे थे. देर रात तक जब कोई आवाज नहीं सुनाई दी तो पड़ोसियों को शक हुआ और पुलिस को फोन किया गया. पुलिस ने घर मे घुसते ही दोनों के शव को झूलते पाया. पुलिस अभी मामले की जांच कर रही है.