बिजली कंपनियों के निजीकरण के विरोध में अजमेर बंद के दौरान कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ता शनिवार सुबह देहली गेट पर आमने-सामने हो गए.

संवेदनशील माने जाने वाले दरगाह बाजार से जुड़े देहली गेट पर भाजपा कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच टकराव की स्थिति को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा और दोनों ही दलों के लोगों को अलग-थलग किया.

दरअसल, कांग्रेस की ओर से बंद के आह्वान का विरोध करते हुए भाजपा कार्यकर्ता जबरन दुकानों को बंद कराने के विरोध में थे और दरगाह बाजार में बंद दुकाने खुलवाने के लिए पहुंचे थे. इसकी भनक जैसे ही कांग्रेस को लगी वैसी ही शहर में घूम रही कांग्रेस की टोलियां देहली गेट पहुंची और नारेबाजी करते हुए भाजपा गुट के सामने खड़ी हो गईं.

मौके पर तनावपूर्ण हालात देखते हुए आला प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंचे व समझाइश की. भाजपा और कांग्रेस दोनों ही एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाते हुए नारेबाजी करते रहे.

इस दौरान कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर धक्का मुक्की करने का भी आरोप लगाया. करीब आधे घंटे बाद पुलिस की समझाइश के बाद मामला शांत हुआ. हालांकि एहतियात के तौर पर मौके पर भारी पुलिस बल तैनात किया हुआ है.

इस सबके बीच, कांग्रेस के अजमेर बंद का व्यापक असर देखा गया और आवश्यक सेवाओं को छोड़ अजमेर बंद पूर्णतः सफल रहा.