दीव अपने खूबसूरत सी बीचेज, चर्च और नैचरल ब्यूटी के लिए दुनियाभर में पॉप्युलर हैं। अरब सागर में एक द्वीप के रूप में बसा यह टूरिस्ट प्लेस गुजरात के एक छोर पर स्थित है। यकीन मानिए, यहां बीच पर मस्ती करने का अलग ही मजा है। दीव में घूमने के लिए बहुत कुछ है। हम आपको कुछ खास चीजों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें आप मिस करना नहीं चाहेंगे...

दीव फोर्ट
दीव फोर्ट तीन साइड से समुद्र और चौथी साइड से एक छोटी नहर से घिरा है। नहर की तरफ से ही किले का ऐंट्री गेट भी है। 16वीं सदी में बने इस किले में आप उस जमाने की तोपें और तलवारें आज भी देख सकते हैं। आसपास की जगहों पर घूमने के लिए यहां से बोटिंग की भी सुविधा है।

चक्रतीर्थ बीच
कहा जाता है कि जालंधर दैत्य को मारने के लिए भगवान विष्णु ने यहीं से चक्र चलाया था। इसलिए इसका नाम चक्रतीर्थ पड़ा। यह बीच इतना शांत है कि आपको लहरों की आवाज के अलावा यहां कुछ नहीं सुनाई देगा। यहां से आसपास की छोटी- छोटी पहाड़ियां बेहद सुंदर दिखती हैं। अगर आप रात में यहां पर आ जाएं, तो लहरों की आवाज पहाड़ियों से टकराती हुई एक अलग तरह का अहसास दिलाती है। बीच के किनारे लाइन पर लगे नारियल के पेड़ भी मन मोहते हैं। यहां पर एक शिव मंदिर है, जहां से सनराइज देखने का भी अपना मजा है।

पनीकोटा
कालेपानी के नाम से जानी जाने वाली यह इमारत फोर्ट के बिल्कुल सामने है। नजदीक से देखने के लिए यहां से बोट की भी सुविधा है। सेंट पॉल चर्च को अब म्यूजियम में बदल दिया गया है। यहां पर आपको क्रिश्चियन कल्चर की झलकर दिखातीं मूर्तियां, शिलालेख और उस वक्त की कला के कई क्रिएटिव नमूने देखने को मिलेंगे।

गंगेश्वर मंदिर
गंगेश्वर मंदिर फुदम गांव में एक झुकी हुई चट्टान के नीचे एक छोटी सी गुफा में स्थित है। माना जाता है कि वनवास के दौरान भटकते हुए पांडव इस गुफा में रुके थे और उन्होंने यहां पर पांच शिवलिंग स्थापित किए थे। आप इस मंदिर को हमेशा नहीं देख सकते, क्योंकि अक्सर समुद्र का पानी बढ़ने पर यह गुफा पानी में डूब जाती है।

जालंधर बीच
यह बेहद शांत बीच है। जहां आप घंटों बिता सकते हैं, लेकिन बिना कोई आवाज सुने। सबसे खास बात यह है कि यहां पर समुद की लहरें भी बेहद शांत हैं। अगर बीच के बाद मंदिर जाने का मन हो, तो एक पहाड़ी पर बने जालंधर मंदिर और देवी चंदिका मंदिर जा सकते हैं।

जामपोर बीच
अगर आपकी हॉबी स्विमिंग और वॉटर स्पोर्ट्स हैं, तो इस बीच पर जरूर आएं। किसी फेस्टिवल के दौरान इस बीच को खूब लाइट्स से सजाया जाता है। यहां पर पाम के ढेर सारे पेड़ हैं, जो लगातार सी विंड से लहराते रहते हैं।

देवका बीच
अगर आपके साथ बच्चे हैं, तो देवका बीच जाना कतई न भूलें। यह बीच काफी लंबा है। यहां का एम्यूजमेंट पार्क और म्यूजिकल फाउंटेन मन मोह लेते हैं। बच्चों के लिए भी यहां पर बहुत कुछ है। यहां पर पानी के अंदर बड़े और छोटे सभी तरह के स्टोंस हैं, इसलिए इस बीच पर स्विमिंग करना अवॉइड करें।

गोमटीमाला बीच
यह खूबसूरत और शांत बीच है। यहां पर कई वॉटर स्पोर्ट्स होते हैं। स्विमिंग के लिए भी यहां पर सिक्यॉरिटी रखी गई है। यह दीव शहर से 27 किलोमीटर की दूरी पर है। शांति और सुकून पाने के लिए यह जगह बेस्ट है।

नागोआ बीच
दीव से केवल 20 मिनट की दूरी तय कर आप इस बीच पर पहुंच सकते हैं। यह वीरान और अलग- थलग है। यहां पर पाम के पेड़ों की लंबी लाइन ऐसी लगती है कि मानो पेंटिंग लगाई गई हो।

कैसे पहुंचें?

-मुंबई से यहां के लिए सीधी फ्लाइट की सुविधा है।

-यहां का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन देलवाड़ा।

-रोड से दीव के लिए द्वारका, वेरावल, सोमनाथ, भावनगर, राजकोट और अहमदाबाद से नियमित बस सेवाएं हैं।