फिल्म का नाम: अ डेथ इन द गंज
डायरेक्टर: कोंकणा सेनशर्मा
स्टार कास्ट: ओम पुरी, विक्रांत मस्सी, कल्कि कोचलिन, गुलशन देवैया, तिलोत्तमा शोम

अवधि: 1 घंटा 48 मिनट
सर्टिफिकेट: A
रेटिंग: 3.5 स्टार
दो बार नेशनल अवॉर्ड जीत चुकीं एक्ट्रेस कोंकणा सेनशर्मा ने डायरेक्शन में भी हाथ आजमाया है. साल 2006 में उन्होंने बंगाली फिल्म 'नामकरून' डायरेक्ट किया था और अब साल 2017 में डायरेक्टर के तौर पर उनकी पहली हिंदी फिल्म 'अ डेथ इन द गंज' रिलीज हो गई है. जानते हैं, आखिर कैसी बनी है ये फिल्म...

कहानी:
यह कहानी 1979 की सर्दियों की है, जब एक परिवार क्रिसमस की छुट्टियां मनाने बिहार के मैक्लुस्कीगंज जाता है. परिवार में बेटा नंदू (गुलशन देवैया), उसकी वाइफ बोनी (तिलोत्तमा शोम), बेटी तानी (आर्या शर्मा ) और कजिन ब्रदर श्यामलाल चटर्जी उर्फ शुतु (विक्रांत मस्सी) हैं. कहानी में ट्विस्ट तब आने लगता है जब परिवार के सदस्य भूतों के बहकावे में आने लगते हैं.

कहानी में बोनी की दोस्त मिमी (कल्कि कोचलिन) और साथ ही नंदू के दोस्त विक्रम (रणवीर शौरी) और ब्रायन (जिम सर्भ) भी शामिल होते हैं. जब तक हॉलिडे खत्म होता है, उस समय तक कई सारी चीजें बदल जाती हैं. घर के मुखिया ओ पी बक्शी (ओम पुरी) और अनुपमा (तनूजा) का भी अहम किरदार है. आखिरकार फिल्म को अंजाम क्या मिलता है, ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

क्यों देखें फिल्म:
- फिल्म की सबसे अच्छी खासियत यह है कि इसमें जितने भी किरदार हैं सभी का कोई न कोई अहम रोल है, जिसकी वजह से एक ही कहानी में विविधता नजर आती है.
- फिल्म में कई सारे मोमेंट भी हैं जो आखिर तक याद रह जाते हैं. जैसे- कबड्डी मैच या फिर शिकार पर जाना या फिर दो किरदारों के बीच में अलग-अलग तरह के संवादों का आदान-प्रदान होना.
- फिल्म में एक्टिंग के हिसाब से हर एक एक्टर ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है. विक्रांत मस्सी जो हाल ही में 'हाफ गर्लफ्रेंड' में नजर आए थे, फिल्म में उनकी एक्टिंग जबरदस्त है.
- फिल्म की लोकेशन, कैमरा वर्क, सिनेमेटोग्राफी और साथ ही साथ साउंड कमाल का है. इसी के साथ कोंकणा सेन शर्मा के डायरेक्शन की भी तारीफ करनी बनती है.

कमजोर कड़ियां:
- फिल्म में कई सारे ऐसे भी दृश्य है जिसमें लूप होल्स हैं. स्क्रीन प्ले के दौरान यदि उनपर ज्यादा काम किया गया होता तो फिल्म किसी और लेवल की होती.
- फिल्म की रफ्तार भी काफी कमजोर है, जिस पर विशेष ध्यान दिया जा सकता था और क्रिस्प एडिटिंग की जरूरत थी.
बॉक्स ऑफिस:
फिल्म का बजट काफी कम है और इसे कई फिल्म समारोहों में पहले ही दिखाया जा चुका है. जहां इसे सराहना भी मिली है.