लंदन: हॉकी वर्ल्ड लीग सेमीफाइनल में शीर्ष दो टीमों में बने रहने के लक्ष्य के साथ भारतीय सीनियर पुरूष टीम गुरूवार को मलेशिया के खिलाफ क्वार्टरफाइनल मुकाबले में उतरेगी। भारतीय हॉकी टीम ने बढिय़ा प्रदर्शन करते हुये स्काटलैंड, कनाडा और फिर चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ एकतरफा जीत के साथ हैट्रिक लगायी थी लेकिन मंगलवार को उसका विजय अभियान हॉलैंड ने रोक दिया और वह 1-3 से हारकर बाहर हो गयी। अब टीम इंडिया को मलेशिया के खिलाफ क्वार्टरफाइनल में फिर से अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखाना होगा जिसने 26वें सुल्तान अजलान कप में उसकी उम्मीदों पर पानी फेर 1-0 से जीत दर्ज कर फाइनल में जगह बना ली थी। 

मलेशिया एक बेहतरीन टीम है और भारत के साथ पिछले मुकाबलों में उसने बराबरी से टक्कर दी है। मलेशिया ने मंगलवार को चीन को हराने के अलावा मौजूदा टूर्नामेंट में कोरिया को 1-0 से हराया है। हालांकि वह अर्जेंटीना से 2-5 से और इंग्लैंड से 3-7 से मैच हार गयी थी। भारतीय टीम के लिये क्वार्टरफाइनल में आकाशदीप सिंह, मनप्रीत, हरमनप्रीत जैसे खिलाड़ी अहम होंगे। आकाशदीप फिलहाल टूर्नामेंट में पांच गोल के साथ तीसरे सर्वश्रेष्ठ स्कोरर हैं। उनसे आगे अर्जेंटीना के गोंजालो पिलाट (11) और इंग्लैंड के सैम वार्ड(07) हैं।

इसके अलावा हरमनप्रीत तीन गोल और रमनदीप सिंह तथा तलविंदर सिंह दो-दो गोल कर चुके हैं। टीम के कोच रोलैंट ओल्टमैंस ने भी मलेशिया के खिलाफ मैच को अहम बताते हुये कहा कि हमें मलेशिया के सामने पूरी सतर्कता बरतनी होगी और यहां गलतियों की गुंजाइश नहीं रहेगी। यदि हम जरा भी लापरवाही बरतते हैं तो टूर्नामेंट से बाहर हो सकते हैं। क्वार्टरफाइनल के अन्य मैचों में अर्जेंटीना का मुकाबला पाकिस्तान और हॉलैंड का चीन से होगा। मेजबान इंग्लैंड का मैच कनाडा से होगा।