मुंबई
पूर्व हॉकी खिलाड़ी और कोच मीर रंजन नेगी एक बार फिर मुश्किल में घिर सकते हैं। मशहूर फिल्म चक दे इंडिया नेगी के जीवन पर आधारित फिल्म थी जिसकी वजह से वह काफी चर्चा में थे। नेगी और उनके एक साथी पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं और उनकी नौकरी से सस्पेंड भी हो सकते हैं। फिलहाल वह कस्टम विभाग में बतौर असिस्टेंट कमिश्नर के पद पर तैनात हैं। सहर स्थित एयर कार्गो कॉम्प्लेक्स में भ्रष्टाचार मामले में उन पर भी आरोप लग रहे हैं।

चीफ कमिश्नर ऑफ कस्टम देवेंद्र सिंह ने सेंट्रल बोर्ड ऑफ एक्साइज ऐंड कस्टम्स (CBEC) को नेगी और असिस्टेंट कमिश्नर वी एम गानू को निलंबित करने के लिए पत्र लिखा है। दोनों अधिकारियों का कुछ दिन पहले ही तबादला किया गया था। विजिलेंस की तरफ से दिए निर्देशों के आधार पर निरीक्षण में फेल होने के कारण दोनों का तबादला किया गया था।

पिछले सप्ताह ही देवेंद्र सिंह ने 17 अन्य अधिकारियों को निलंबित किया था। सभी अधिकारियों पर कार्गो कॉम्प्लेक्स में भ्रष्टाचार का दोषी मानते हुए सिंह ने यह कार्रवाई की थी। हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने कॉम्प्लेक्स में चल रहे भ्रष्टाचार पर एक लंबी सीरीज प्रकाशित की थी। हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को भेजे मेसेज में नेगी ने लिखा, 'विजिलेंस की जांच अभी चल रही है इसलिए मैं इस पूरे मामले पर कुछ नहीं कह सकता। मुझे विश्वास है कि सच सामने आएगा।'

वहीं देवेंद्र सिंह ने कहा कि दोनों अधिकारियों के निलंबन की प्रक्रिया से जुड़े केस अलग हैं। नेगी और गानू का तबादला पहले ही कर दिया गया है। बता दें कि एयर कार्गो कॉम्प्लेक्स देश का सबसे पुराना और बड़ा कॉम्प्लेक्स है। अनुमानित तौर पर इससे देश को 14,000 करोड़ रुपए की कमाई सरकार की होती है। पिछले कुछ महीनों में सीबीईएस ने कॉम्प्लेक्स में चल रहे स्मगलिंग रैकिट का पर्दाफाश किया है।

बता दें कि मीर रंजन नेगी की गिनती दुनिया के बेहतरीन गोलकीपरों में से होती थी। 1982 में पाकिस्तान के खिलाफ एशियन गेम्स फाइनल में 7 गोल खाने के कारण उनकी काफी आलोचना हुई थी। 16 साल बाद उन्होंने बतौर कोच वापसी की और महिला हॉकी टीम के कोच बने। टीम ने 1998 के एशियवन गेम्स में गोल्ड मेडल जीता। चक दे इंडिया फिल्म में नेगी के जीवन से प्रभावित किरदार शाहरुख खान ने निभाया था।