टीबी एक ऐसी बीमारी है जो मायकोइक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस बैक्टीरिया के कारण फैलती है। यह ज्यादातर फेफ़डों में होती है और इससे रोगी को खांसी, कफ और बुखार हो जाता है। यह एक तरह का छूत का रोग है जिसका अगर शुरूआत में ही इलाज न किया गया तो यह रोगी के लिए जानलेवा साबित हो सकता है। वैसे तो टीबी कोई आनुवांशिक रोग नहीं है और यह किसी को भी हो सकती है लेकिन जब परिवार में किसी एक सदस्य को टीबी हो जाए तो बाकि लोगों को काफी परहेज रखना पड़ता है क्योंकि रोगी के खांसने और छिकनें से जीवाणु फैल जाते हैं जिससे दूसरे सदस्य को भी यह समस्या हो सकती है। इस बीमारी का इलाज काफी धीमा है। रोगी को ठीक होने में काफी समय लग जाता है। ऐसे में डॉक्टरों की दवाओं के साथ कुछ घरेलू उपाय भी कर सकते हैं जिससे टीबी के रोगी को फायदा होगा। आइए जानिए इसके कारण, लक्षण और घरेलू नुस्खों के बारे में

कारण
अधिक धूम्रपान
शराब का सेवन
साफ-सफाई न रखना
प्रदूषित हवा में सांस लेना

लक्षण
भूख न लगना
वजन कम हो जाना
बुखार
लगातार खांसी आना और इसके साथ बलगम व खून निकलना
गर्दन की ग्रंथियों में सूजन या फोड़ा होना
सीने में दर्द
सांस तेज होना
थकान, कमजोरी

 घरेलू उपाय
1. लहसुन
इसमें काफी मात्रा में सल्फयूरिक एसिड पाया जाता है जो टीबी के कीटाणुओं को खत्म करने में मदद करता है। इसके लिए आधा चम्मच लहसुन, 1 कप दूध और 4 कप पानी को एक साथ उबालें। जब यह मिश्रण 1 चौथाई रह जाए तो इसे दिन में 3 बार पीने से टीबी रोग में फायदा होता है। इसके अलावा गर्म दूध में लहसुन मिलाकर भी पीया जा सकता है। इसके लिए दूध में लहसुन की कलियां उबालें और फिर इसका सेवन करें।
2. केला
इसके लिए 1 पके हुए केले को मसलकर नारियल पानी में मिलाएं और इसके बाद इसमें शहद और दही मिलाएं। इसे दिन में दो बार खाने से रोगी को फायदा होता है। इसके अलावा कच्चे केले का जूस बनाकर भी रोजाना पी सकते हैं।
3. आंवला
कच्चे आंवले को पीसकर इसका जूस बना लें और इसमें 1 चम्मच शहद मिलाकर रोजाना सुबह पीने से फायदा होता है। 
4. संतरा
इसके लिए ताजा संतरे के जूस में नमक और शहद मिलाकर रोजाना सुबह-शाम पीएं। इसके अलावा संतरा खाने से भी टी बी के रोगी को फायदा होता है।
5. काली मिर्च
फेफड़ों में जमा कफ और खांसी को दूर करने में काली मिर्च काफी फायदेमंद होती है। इसके लिए थोड़े से मक्खन में 8-10 काली मिर्च फ्राई करें और इसमें 1 चुटकी हींग मिलाकर पीस लें। इस मिश्रण को तीन बराबर भागों में बांटकर दिन में 7-8 बार लें।
6. अखरोट
इसको पीस कर पाउडर बना लें और इसमें कुछ पीसी हुए लहसुन की कलियां मिलाएं। अब इसमें घर में बना हुआ ताजा मक्खन मिलाकर खाएं।