हार्ट अटैक एक एेसी बीमारी है जिसका नाम सुनते ही लोग डर जाते हैं। अक्सर छाती में दर्द होने पर लोग हार्ट अटैक समझ कर परेशान हो जाते हैं लेकिन जरूरी नहीं छाती में दर्द हार्ट अटैक आने पर ही हो। इसके पीछे और भी कई कारण हो सकते है। टीबी या फिर पेट में अल्सर होने के कारण भी छाती में दर्द होने लगता है लेकिन इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। एेसी परेशानी होते ही तुरंत डॉक्टर से जांच करवाएं।

छाती में दर्द होने के कारण 

1. कई बार धमनियों के सिकुड़ने के कारण रक्त के आवागमन में दिक्कते आने लगती हैं जिससे धमनियों में रक्त का थक्का बन जाता है। इस सिचुएशन में ऑक्सीजन दिल तक नहीं पहुंच पाती, जिससे सांस लेने में मुश्किल और सीने में दर्द होने लगता है। इस बीमारी को एनजाइना कहते है। समय रहते इस बीमारी का इलाज करवाना बहुत जरूरी है। 
2. ज्यादा तनाव में रहने से भी छाती में दर्द होता है। छाती में दर्द का कारण हाई ब्लड प्रैशर भी है। एेसे में ब्लड प्रैशर को कंट्रोल में रखें।
3. कई बार किसी चीज से डरने या फिर सदमा लगने से धड़कन बढ़ने लगती है जिससे सीने में दर्द होने लगता है। 
4. दरअसल, हृदय तक रक्त पहुंचाने वाली धमनियों में किसी भी तरह का परिवर्तन आना सीने में दर्द का कारण है। 

एेसे करें बचाव 
सीने के दर्द से बचने के लिए अपने खान-पान का पूरा ध्यान रखें। रोज व्यायाम करें। अपनी डाइट में फाइबर की मात्रा को बढ़ाएं और कैलोरी कम करें। तनाव से दूर और खुश रहें। शराब और धूम्रपान से दूरी बनाएं।