होटल्स के बारे में लोगों की सोच अलग होती है। लोगों का मानना है कि होटल काफी खूबसूरत और बड़ा होता है। उनकी बड़ी-बड़ी इमारतों का डिजाइन्स भी काफी अलग-अलग और सुंदर होता है। तभी जाकर किसी अच्छे होटल की पहचान होती है। कोई होटल अपनी सबसे ऊंची बिल्डिंग के लिए तो कोई अपनी अजीबों गरीब बनावट के लिए मशहूर होता है लेकिन आज जिस होटल की बात हम करने जा रहे है वहां न तो आपको कोई खूबसूरत दरवाजा दिखाई देगा न ही कोई दीवार। फिर भी इस होटल में रहने के लिए हजारों लोग लाइन में खड़े रहते है। 

 

स्विट्जरलैंड के ऐल्प्स पर्वत पर स्थित इस होटल ‘जीरो स्टार’ हैं जो समुद्र तल से 6483 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। हैरानी की बात है की यहां इस होटल में न कोई छत है और न ही कोई दीवार। बल्कि आपको खुले वातावरण में रहना पड़ेगा। अगर आप इस होटल का किराया सुनेगो तो होश ही उड़ जाएगे। इस होटल में एक रात टिकने का किराया लगभग 14 हजार रूपए है।  वैसे तो व्यक्ति किसी होटल में सिर पर छत और टॉयलेट की सुविधा के लिए रूकता है लेकिन इस होटल में आपको ऐसी कोई सुविधा नहीं मिलेगी। टॉयलेट जाने के लिए भी आपको यहां से 10 मिटर की दूरी तैय करनी पड़ेगी।  

 

फिर भी यहां प्राकृति की गोद में सोने के लिए लोग लाइन में खड़े रहते है। अगर आप भी प्राकृति प्रैमी है तो इस होटल में ठहरना न भूले। इस ओपन एयर होटल को बनाने का आईडिया आर्टिस्ट फ्रैंक और पैट्रिक रिकलिन के अलावा हॉस्पिटेलिटी प्रोफेशनल डैनियल चार्बोनायर ने दिया था। इस होटल को बनाने का मकसद था कि आने वाले टूरिस्टों को स्विट्जरलैंड के लैंडस्केप की खूबसूरती दिखाई जा सकें।