बेगमगंज अपर सत्र न्यायाधीश ने सुनाया फैसला 
रायसेन। 
बेगमगंज के प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश अरविन्द रघुवंशी ने साँईखेडा के पत्रकार के हत्या के एक प्रकरण क्रमांक एसटी 131,013 के मामले में आरोपी देवेन्द्र एवं सुनील को अलग-अलग धाराओं में आजीवन कारावास तथा धारा 449 भादवि में दस.दस वर्ष के कारावास तथा दस दस हजार रूपए के जुर्माना से दण्डित किया है। अपर लोक अभियोजक बद्री विशाल गुप्ता ने शासन की ओर से पैरवी की गई। 
शासकीय अधिवक्ता ने बताया कि दिनांक 1 फरवरी 2013 को बस स्टेण्ड साँईखेड़ा पर मृतक प्रदीप पत्रिका के संवाददाता के साथ आरोपी देवेन्द्र ने सिर में क्रिकेट के बल्ले से चोट पहुँचाई एवं साथी आरोपी सुनील द्वारा मृतक पर पेट्रोल डाला गया। मारपीट के बाद प्रदीप अपने बस स्टेण्ड स्थित निवास की ओर भागते आरोपीगण ने उसे मारने के उद्देश्य से पीछा करते हुए उसे घर में घुसकर हत्या के इरादे से घर के अंदर भी मारपीट की।
प्रकरण में शासन अभियोजन पक्ष से 12 साक्षियों का परीक्षण कराया गया, जिसमें चिकित्सक डा.चन्द्रेश जैन तथा कुशल गलबाड ने मृतक प्रदीप के सिर में आई गंभीर चोट और अस्तीभंग से मृत्यु होना पाया। अभियोजन साक्षियों ने घटना का समर्थन करते हुए कथन दिए।
न्यायाधीश ने साक्ष्य पर विश्वास करते हुए अपराध सिद्ध होने से आरोपी देवेन्द्र को धारा 302 में हत्या का दोषी माना तथा सुनील को धारा 302,34 का दोषी मानकर आजीवन कारावास और पांच.पांच हजार के अर्थ दण्ड से दंडित किया तथा दोनों आरोपियों को धारा 449 में मृत्यु से दण्डनीय अपराध के उद्देश्य से गृह अतिचार का दोषी मानकर 10.10 वर्ष के कारावास एवं पांच.पांच हजार के अर्धदण्ड से दंडित करने की भी सजा दी। इस प्रकरण में आरोपी देवेन्द्र संपूर्ण विचारण में जेल में रहा तथा आरोपी सुनील जमानत पर था, उसे भी अभिरक्षा में लेकर जेल भेजा गया।