चेन्नई में रहने वाले 2 साल 8 महीने के वरुण श्रीराम नन्ही सी उम्र में ज्ञान का ऐसा खजाना की बड़े-बड़े भी इनकी प्रतिभा को जानकर दंग रह जाते हैं.  ये भारत के विलक्ष्ण प्रतिभा के नाम से भी मशहूर हैं. वरुण की सबसे बड़ी खासियत है कि वो एक बार कुछ भी देख या सुन लेते हैं तो वो उन्हें हमेशा के लिए याद हो जाती है. 

वरुण की मां बताती हैं कि वो देख या सुन कर न सिर्फ याद करता है, बल्कि इन सभी जानकारियों को सही जगह पर इस्तेमाल करना भी जानता है. 

इस नन्ही सी उम्र में वरुण को देश-दुनिया की तमाम ऐतिहासिक इमारतों, देश के नक्शों, राजनेताओं के नाम कंठस्थ हैं.  वरुण की इतनी शार्प मैमोरी उनके टीचर्स और मम्मी-पापा के लिए भी एक बड़ा चैलेंज है. वो इतनी जल्दी सब कुछ सीख जाते हैं कि उनके टीचर्स और पैरेंट्स को उनके लिए कोई नया गेम या जानकारी जुटानी पड़ती है.

वरुण की इस अनोखी प्रतिभा के बारे में उनकी फैमिली डॉक्टर ने बताया कि वरुण का अभी तक तो कोई साइकोलॉजिकल टेस्ट नहीं हुआ है, मगर उन्हें उम्मीद है कि वरुण का आईक्यू लेवल 144-146 तो होगा ही.

इतनी छोटी उम्र में ही वरुण को आठवीं क्लास में पढ़ाई जाने वाली पीरियोडिक टेबल पूरी तरह से याद है. वरुण के नाम 10 मिनट में 672 अलग-अलग चीजें पहचानने का भी रिकॉर्ड है.