रायसेन कोर्ट में विशेष न्यायाधीश ने सुनाया फैसला
रायसेन।
  रायसेन जिला न्यायालय की विशेष न्यायाधीश श्रीमती तृप्ति शर्मा ने 5 हजार रूपए की रिश्वत लिए जाने के मामले में फैसला सुनाते हुए आरोपी बैंक मैनेजर को 4 साल की सजा सुनाई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार रायसेन जिले के ग्राम खरबई की सतपुड़ा नर्मदा ग्रामीण बैंक के तत्कालीन बैंक मैनेजर फूलचंद कोष्टा को 5 हजार रूपए की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त पुलिस द्वारा किसान भैयालाल की भाभी श्रीमति द्रोपदी बाई से केसीसी कार्ड के नवीनीकरण के लिए 10  हजार रुपये रिश्वत की मांग की थी,  भैया लाल की  शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस ने तत्कालीन बैंक मैनेजर  फूलचंद कोष्टा को 5000 रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथो  गिरफ्तार किया था और  लोकायुक्त ने 26 नवंबर 2011 को  रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ते हुए मामला पंजीबद्ध किया था। इसके बाद लोकायुक्त ने 8 मई 2013 को यह मामला जिला न्यायालय रायसेन में दायर किया था,इस मामले की पैरवी शासन की ओर से  रामेश्वर कुमरे उपसंचालक अभियोजन द्वारा की गई।

ग्रामीणों को चिटफंड कंपनी ने लगाई लाखों की चपत
फरियाद लेकर पुलिस थाने पहुंची गांव की महिलाएं
बेगमगंज।
बेगमगंज तहसील के नगर सहित ग्रामीण क्षेत्र में चिटफंड  कंपनियों का मकड़ जाल फैला हुआ है। जरूरत मंद गरीबों को कंपनी मोटे ब्याज में राशि उपलब्ध कराती है, इसके बाद एक भी किस्त चुकने पर ग्रामीणों का तरह-तरह से कंपनी शोषण करती है।  बेगमगंज पुलिस थाने में एक दर्जन से अधिक महिलाएं एवं पुरुष पहुंचे और अपनी फरियाद सुनाई। ग्रामीणों ने बताया कि जीएन गोल्ड कंपनी के नाम पर पैसे जमा करके एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने सैकड़ों महिलाओं को लाखों का चूना लगाया है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार ग्राम सुनेहरा निवासी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती माया परिहार पति माखन सिंह परिहार के विरुद्ध सुनेहरा की एक दर्जन से अधिक महिलाओं ने विगत माह भी शिकायत दर्ज कराकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता,गांव के अन्य नागरिकों पर सन 2010 में ये कह कहकर खाते खोले थे कि 5 साल में जमा राशि दोगुनी होकर मिलेगी प्रतिमाह जीएन गोल्ड कंपनी के नाम पर फरियादी महिलाओं एवं लोगों ने पैसा जमा करना शुरू कर दिया था और कई लोगों ने तो 50 हजार से लेकर एक पांच लाख रुपए तक कि फिक्स  डिपॉजिट करने के लिए पैसा जमा कराए थे। लेकिन 5 साल निकलने के बाद जब जमा कर्ताओं द्वारा अपने पैसे वापस मांगे गए तो उन्हें पता चला कि जीएन गोल्ड कंपनी सबके पैसे लेकर रफूचक्कर हो गई है। खबर लगते ही सैकड़ों महिलाओं थाने पहुंचे और अपनी-अपनी फरियाद पुलिस को बताई पुलिस ने जांच उपरांत माया परिहार,जावेद कमर,इशरत जहां के खिलाफ धारा 420,34 के तहत मामला दर्ज मामले की छानबीन शुरू कर दी है।