रोगी कल्याण समिति की बैठक संपन्न
सागर।
मरीजों की सुविधा के लिए जिला चिकित्सालय में ब्लड सेपरेशन यूनिट शीघ्र स्थापित करने का प्रयास करें। इसके लिए आवश्यक सभी व्यवस्थायें पूर्ण कर ली जायें। एक माह के अंदर यूनिट प्रारंभ कर दी जाये। यह निर्देश  प्रभारी मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित जिला चिकित्सालय की रोगी कल्याण समिति की बैठक में अध्यक्षता करते हुए दिए।
    प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिला चिकित्सालय का बुंदेलखंड मेडीकल कॉलेज में मर्जर किया गया है जिसके कारण जनता की शिकायतें सामने आ रही हैं। उन्होंने कहा कि अगले 3 माह में सभी समस्याएं दूर करने का प्रयास करें। इसके पश्चात मर्जर के संबंध में फि र से विचार किया जायेगा। उन्होंने पूछा कि मर्जर क्या जरूरी था। इस संबंध में कलेक्टर आलोक कुमार सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्र के निर्देशानुसार बुंदेलखंड मेडीकल कॉलेज को एक मॉडल के रूप में तैयार किया जाना है जिसमें मर्जर का विशेष योगदान रहेगा।
    प्रभारी मंत्री ने जिला चिकित्सालय के वाहन स्टैण्ड का ठेका निरस्त करने के संबंध में व्यवहारिक स्थिति, एग्रीमेंट की शर्तो आदि को ध्यान में रखकर निर्णय लेने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि चिकित्सक अपने मुख्यालय पर रहें। लापरवाही करने वालों पर कार्यवाही करें।  बैठक में बताया गया कि अप्रैल 2017 से जुलाई 2017 तक रोगी कल्याण समिति की 31 लाख 14 हजार 240 रूपये की आय हुई। जुलाई 2017 की स्थिति में एक करोड़ 85 लाख 19 हजार 368 रूपये की राशि शेष है।  बैठक में सांसद  लक्ष्मीनारायण यादव, विधायक शैलेन्द्र जैन, हरवंश सिंह राठौर, कलेक्टर आलोक कुमार सिंह, आयुक्त नगर निगम अनुराग वर्मा, सीईओ जिला पंचायत चंद्रशेखर शुक्ला, अपर कलेक्टर दिनेश श्रीवास्तव, संयुक्त कलेक्टर श्रीमती प्रभा श्रीवास्तव सहित   समिति के अन्य शासकीय-अशासकीय सदस्य मौजूद थे ।