बिजली,सफाई,फर्नीचर और पेयजल व्यवस्था नहीं
खुरई।
शिक्षा में सुधार का ढिंढोरा पीटने वाले विभाग ने शास.कन्या उ.मा. विद्यालय के पुराने भवन में जगह की कमी के चलते श्यामाप्रसाद मुखर्जी वार्ड में विद्यालय के खाली पड़े नये भवन में पेयजल, बिजली, सफ ाई, फर्नीचर, शौचालय सुविधा, सुरक्षा दीवाल जैसी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध न कराकर कक्षाएं शिफ्ट करा देने से छात्राओं की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। कीचड़ और गंदगी के बीच सुविधा विहीन नए भवन में छात्राएं अध्ययन करने को मजबूर हो रही है, जिससे छात्राओ की पढ़ाई प्रभावित होने से उनका भविष्य चौपट हो रहा है।


अधूरी सुरक्षा दीवाल
छात्राओं की सुरक्षा के लिए बनाई जाने वाली सुरक्षा दीवाल का कार्य अधूरा होने से विद्याालय के परिसर से लोगो का आवागमन होने के कारण एवं आवारा मवेशीयों के परिसर में विचरण करने से अध्ययनरत छात्राएं अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रही है। नए भवन में कक्षाएं शिफ्ट करने से पहले छात्राओं की सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा गया जिससे अविभावकगण अपनी बेटीयों की सुरक्षा को लेकर काफ ी चिंतित दिखाई दे रहे है।
परिसर में फैली गंदगी: कन्या उ. मा. विद्यालय के नवीन भवन परिसर में बारिस के पानी का भराव होने से पूरे परिसर में कीचड़ होने से गंदगी फैली हुई है। पसरी हुई गंदगी की बदबू एवं भिनभिनाती मच्छरो के झुंड के झुंड एवं प्रदुषित वातावरण के कारण छात्राओं का ध्यान पढ़ाई में नही लग रहा है और न ही अध्यापन का कार्य कराने वाले शिक्षको का मन अध्यापन कार्य में लग रहा है। 
शौचालय का नहीं कर पा रहीं उपयोग: विद्यालय परिसर में छात्राओं की सुविधा के लिए बनाए गए शौचालय के पास जल भराव होने से छात्राएं उसका उपयोग नहीं कर पा रही है। विद्यालय परिसर के पीछे पानी निकासी की व्यवस्था न होने से जल भराव के कारण पूरे परिसर में कीचड़ की भरमार होने से छात्राएं शौचालय के नजदीक तक कीचड़ की वजह से नहीं पहुंच पा रही है।