-आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया के माध्यम से दी जाएगी महापुरुषों की जानकारी
रायसेन।
आंगनबाड़ी केंद्रों में अब बच्चों को देश के महापुरुषों की जीवनगाथा बताई जाएगी। इस योजना की शुरुआत 15 अगस्त से हो चुकी है। इसके तहत सभी केन्द्रों में महापुरुषों पर आधारित कार्यक्रम आयोजित होंगे, ताकि बच्चे उनके जीवन से प्रेरणा ले सकें। महिला एवं बाल विकास विभाग ने आंगनबाड़ी केन्द्रों पर बच्चों के लिए नई गतिविधि शुरू की है। इसके तहत यहां आने वाले बच्चों को महापुरुषों के जीवन के बारे में जानकारी दी जाएगी। इस कवायद का मकसद बच्चों में अच्छे संस्कार पैदा करना है, ताकि वे जिम्मेदार नागरिक बन सकें।
 बच्चों को दिखाएंगे तस्वीर:-अधिकारियों के मुताबिक बच्चों के बौद्धिक और मानसिक विकास की पहली सीढ़ी आंगनवाड़ी केंद्र हैं। स्कूल के पहले वे यहीं पर सीखने की शुरुआत करते हैं। ऐसे में यदि उन्हें शुरुआत से ही देश प्रेम के बारे में बताया जाए तो उनके मन में राष्ट्रवाद की भावना आएगी। इसे ध्यान में रखते हुए विभाग ने यह योजना शुरू की है। इसके तहत महापुरुषों की जन्म जयंती और पुण्यतिथि पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इस दौरान बच्चों को संबंधित महापुरुष के जीवन वृतांत के बारे में बताया जाएगा।

बच्चों को उनकी तस्वीर दिखाई जाएगी। इससे वे पढऩे के साथ ही महापुरुष को पहचान पाएंगे। इसके लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया जाएगा। महापुरुष की जयंती या पुण्यतिथि से दो दिन पहले ही संबंधित शख्सियत की तस्वीर और जीवन परिचय कार्यकर्ताओं के वाट्स एप ग्रुप पर भेजा जाएगा। इसकी मदद से कार्यकर्ता बच्चों को उस महापुरुष के बारे में जानकारी देंगे। आंगनवाड़ी केंद्रों का नाम महापुरुषों के नाम पर रखने का प्रस्ताव भी विचाराधीन है।

   
कम बारिश से मुरझाई फसल, पीला मोजेक से सोयाबीन बर्बाद
रायसेन।
सावन सूखा जाने के बाद भादौ में भी बारिश के आसार नजर नहीं आ रहे। बारिश नहीं होने से जिले में सूखे के हालात बन गए हैं। बारिश की कमी से सोयाबीन की फसल में कहीं पीला मोजेक लग रहा है तो कहीं फसलें सूख रही हैं। कई गांवों में पानी के करण  किसान फसल में बखार दीया है। रायसेन क्षेत्र में फसलें सूखती जा रही हैं तो कहीं फसलें मुरझाने लगी हैं। किसानों का कहना है यदि एक सप्ताह में बारिश नहीं हुई तो फसल बर्बाद हो जाएगी।