आयुर्वेद में पूरी तरह से स्वस्थ रहने के हर एक पहलू के बारे में बताया गया है। चाहे वह सही तरीके से खाने की बात हो या रोजाना सुबह उठने और मेडिटेशन करने की आदत के बारे में। आयुर्वेद के अनुसार बीमारियों से दूर रहने के लिए हमारे शरीर और दिमाग को एक हेल्दी रूटीन की जरूरत पड़ती है। इन सामान्य से नियमों का पालन करके व्यक्ति अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सकता है। आयुर्वेद का जन्म भारत से ही हुआ है इसके बाद यह पूरी दुनिया में फैल गया। जीवन जीने का आयुर्वेदिक तरीका व्यक्ति के संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए सबसे सर्वोत्तम है।
आयुर्वेद में सही समय पर खाने की आदत डालने से तुरंत कोई फर्क नहीं दिखता है। यह शरीर और दिमाग के बीच बिल्कुल धीरे-धीरे काम करता है और अंत में स्थायी परिणाम देखने को मिलता है। आजकल खराब जीवन शैली, अधिक तनाव और ज्यादा समय तक बैठे रहने से डायबिटीज, मोटापा और हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं। आज के समय में अच्छे स्वास्थ के लिए हम सभी को इन आदतों को डालना चाहिए।