नई दिल्ली . पैरालिंपियन देवेंद्र झझारिया और अनुभवी हॉकी खिलाड़ी सरदार सिंह को मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न से नवाजा जबकि स्टार महिला क्रिकेटर हरमनप्रीत कौर समेत 16 खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार प्रदान किया गया। इस बार अर्जुन पुरस्कार के लिये 17 खिलाड़ियों का चयन किया गया है लेकिन क्रिकेटर चेतेश्वर पुजारा काउंटी क्रिकेट में व्यस्त होने के कारण पुरस्कार ग्रहण करने के लिये नहीं पहुंच पाए। उन्हें यह पुरस्कार बाद में प्रदान किया जाएगा।

भालाफेंक खिलाड़ी झझारिया दो पैरालिंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाले पहले भारतीय हैं और खेलरत्न पाने वाले पहले पैरा-ऐथलीट भी हैं। जस्टिस सी के ठक्कर (रिटायर्ड) की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने उनके और सरदार सिंह के नाम की अनुशंसा की थी जिस पर खेल मंत्रालय ने मुहर लगाई। दोनों को मंगलवार को महान हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन यानी राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक विशेष समारोह में पुरस्कार प्रदान किये गए। उन्हें प्रशस्ति पत्र के साथ 7.5 लाख रुपये नकद पुरस्कार दिया गया।

इस साल खेल पुरस्कार विवादों से अछूते नहीं रहे। द्रोणाचार्य पुरस्कार की सूची से खेल मंत्रालय ने पैरा खेलों के कोच सत्यनारायण और कबड्डी कोच हीरानंद कटारिया का नाम हटाया जबकि पुलेला गोपीचंद की अध्यक्षता वाली समिति ने इनके नामों की अनुशंसा की थी। सत्यनारायण के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज है और कटारिया के खिलाफ मंत्रालय को कई शिकायतें मिली थी। इन दोनों के नाम हटाकर छह कोचों को द्रोणाचार्य पुरस्कार दिए गए जबकि तीन पूर्व खिलाड़ियों को खेलों में आजीवन योगदान के लिए ध्यानचंद पुरस्कार मिला।

अर्जुन, द्रोणाचार्य और ध्यानचंद पुरस्कार पाने वालों को प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह और पांच-पांच लाख रुपये नकद दिये गए। खेलरत्न झझारिया ने 2004 एथेंस ओलिंपिक में और पिछले साल रियो ओलिंपिक में एफ-46 वर्ग में स्वर्ण पदक जीते। उन्होंने दोनों मौकों पर विश्व रेकॉर्ड भी बनाया और 2013 विश्व चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीता।

दूसरी ओर देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री से नवाजे जा चुके पूर्व कप्तान सरदार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन करते आए हैं। सुल्तान अजलन शाह कप 2008 में भारतीय टीम की कमान संभालने वाले सरदार सबसे युवा कप्तान बने थे। दो साल पहले पद्मश्री से नवाजे गए सरदार 2014 इंचियोन और 2010 ग्वांग्झू एशियाई खेलों में क्रमश: गोल्ड और ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे। वह दो बार राष्ट्रमंडल खेल सिल्वर मेडल जीत चुके हैं और 2010 तथा 2011 में एफआईएच की ऑल स्टार टीम का हिस्सा थे।

सरदार के नाम पर समिति में बहस भी हुई थी क्योंकि भारतीय मूल की एक ब्रिटिश हॉकी खिलाड़ी ने उन पर यौन उत्पीडन का आरोप लगाया था। खेल के मैदान पर हालांकि उनकी उपलब्धियों को समिति नकार नहीं सकी। अर्जुन पुरस्कार पाने वाले खिलाड़ियों में इनमें क्रिकेटर चेतेश्वर पुजारा, महिला क्रिकेट टीम की विश्व कप स्टार हरमनप्रीत कौर, पैरालिंपिक मेडल विजेता एम थंगावेलू और वरुण भाटी, गोल्फर एसएसपी चौरसिया और हॉकी स्टार एस वी सुनील शामिल हैं।

पुजारा इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट में व्यस्त होने के कारण पुरस्कार लेने नहीं सके। पुजारा ने एक बयान में कहा था , 'मैं यह प्रतिष्ठित पुरस्कार पाकर काफी गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं लेकिन इंग्लैंड में नॉटिंगमशर काउंटी के साथ खेलने के कारण मैं पुरस्कार लेने नहीं सकूंगा।' पुजारा ने पिछले साल एक सत्र में भारत के लिए 1350 से ज्यादा रन बनाये।

 

मरियप्पन ने पुरुषों की उंची कूद (एफ-46) में गोल्ड मेडल जीता जबकि भाटी ने इसी वर्ग में सिल्वर मेडल हासिल किया। गोल्फर चौरसिया ने 2016 और 2017 में इंडियन ओपन खिताब जीते।