कोलंबो . भारत और श्री लंका के बीच शुक्रवार को कोलंबो के प्रेमदासा स्टेडियम में खेले जाने वाले चौथे वनडे के परिणाम का अब वैसे तो सीरीज पर खास असर नहीं पड़ने वाला, फिर भी लोगों की दिलचस्पी इस मैच में है। इसकी वजह है महेंद्र सिंह धोनी इस मैच के जरिए वनडे इंटरनैशनल करियर में अपनी ट्रिपल सेंचुरी पूरी करने जा रहे हैं। साफ शब्दों में कहें तो यह धोनी के करियर का 300वां वनडे इंटरनैशनल मैच होगा। 

धोनी अभी तक खेले 299 वनडे में धोनी ने 9608 रन बनाए हैं, जिसमें उनके नाम 65 हाफ सेंचुरी और 10 सेंचुरी भी हैं। वनडे क्रिकेट में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशरों में से एक धोनी से अधिक वनडे सिर्फ सचिन तेंडुलकर (463), राहुल द्रविड़ (344), मोहम्मद अजहरुद्दीन (334), सौरव गांगुली (311) और युवराज सिंह (304) ने खेले हैं। पिछले मैच में उम्दा बैटिंग करने वाले धोनी उस लय को कायम रखना चाहेंगे। उन्होंने दबाव के हालात में 45 और 67 रन की पारियां खेलीं जिससे साबित होता है कि अभी उनके भीतर बहुत क्रिकेट बाकी है और उनकी नजरें 2019 वर्ल्ड कप पर लगी हैं।

इस माइलस्टोन मैच में धोनी वनडे क्रिकेट में दो-दो वर्ल्ड रेकॉर्ड भी अपने नाम कर सकते हैं। एक रेकॉर्ड बैट से और दूसरा ग्लव्स से। धोनी के नाम 99 स्टंपिंग हैं और वह इस मामले में श्रीलंकाई दिग्गज कुमार संगकारा के साथ टॉप पर खड़े हैं। अगर वह एक स्टंपिंग करते हैं तो स्टंपिंग करते हुए तीन अंकों में पहुंचने वाले दुनिया के पहले विकेटकीपर बन जाएंगे। दूसरा रेकॉर्ड नॉटआउट पविलियन लौटने का है। धोनी अभी तक 72 बार वनडे में नॉटआउट रहे हैं। इस मामले में वह साउथ अफ्रीका के शॉन पोलाक और श्री लंका के चामिंडा वास के साथ खड़े हैं। एक और नॉटआउट इनिंग्स से वह नॉटआउट रहने के मामले में सबसे आगे निकल जाएंगे।

बेंच स्ट्रेंग्थ आजमाने की बारी

भारत सीरीज में पहले ही 3-0 की अजेय बढ़त हासिल कर चुका है ऐसे में विराट कोहली का अगला लक्ष्य बेंच स्ट्रेंग्थ को मौका देने का होना चाहिए। बेंच पर बैठे प्लेयर्स में कुलदीप यादव, मनीष पांडे, अजिंक्य रहाणे और शारदुल ठाकुर शामिल हैं। विराट भी लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके हैं। वहीं चौथे नंबर पर केएल राहुल भी अच्छी पारी खेलना चाहेंगे। लगातार 2 मैचों में खाता खोलने में नाकाम रहे केदार जाधव पर दबाव होगा। वह धनंजय की गेंदों को समझने में पूरी तरह से नाकाम रहे हैं। पहले मैच में वह गुगली पर चूके और दूसरे मैच में स्वीप शॉट खेलते हुए गेंद की लंबाई नहीं भांप सकें। यह देखना होगा कि क्या टीम प्रबंधन जाधव की जगह पांडे को मौका देता है। जाधव के साथ फायदा उनकी सपाट ऑफ ब्रेक है जिससे विराट को एक अतिरिक्त गेंदबाजी विकल्प मिलता है।

कुलदीप हैं दावेदार

फास्ट बोलर ठाकुर ने नेट पर अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमरा तीन ही मैच खेले हैं और आराम नहीं चाहेंगे। विराट संकेत दे चुके हैं कि वह प्लेयर्स को रोटेट करना चाहते हैं और ऐसे में चाइनामैन कुलदीप यादव को मौका मिल सकता है। अगर कुलदीप को मौका दिया गया तो अक्षर पटेल या युजवेंद्र चहल को बाहर बैठना होगा।

श्रीलंका के कार्यवाहक कप्तान लसिथ मलिंगा ने कहा, 'हमारी टीम में कौशल और प्रतिभा की कमी नहीं है लेकिन उसका कैसा उपयोग करें इसको लेकर थोड़ी कमी है। हमें अपनी मानसिकता बदलनी होगी। मेरा लक्ष्य खिलाड़ियों की ऐसी मानसिकता तैयार करनी है, जिससे वे कड़ी परिस्थितियों से निबट सकें। अगर हम इसमें सफल रहते हैं तो अनुकूल परिणाम हासिल करेंगे।'