धार्मिक आयोजनों से नदियों को होने वाले नुकसान से बचने मध्य प्रदेश में जबलपुर नगर निगम ने सार्थक कदम आगे बढ़ाया है.

साधु संतो के विशेष आव्हान पर निगम द्वारा प्रतिमाओ के विसर्जन के लिए बनाए गए कुण्ड को धार्मिक स्थल घोषित करते हुए उसका नाम कमल सरोवर रखा है. कुण्ड की खास बात ये भी है कि इसमे नर्मदा का जल ही भरा गया है ताकि श्रद्धालुओं की आस्था पर कोई ठेस न पहुंचे.

नर्मदा के तट किनारे बनाए गए इस कुण्ड मे 50 फीट तक की प्रतिमाओ का विसर्जन आसानी से हो सकता है. विगत आठ सालो से इस व्यवस्थित कुण्ड को बनाए जाने का कार्य चल रहा था जो अब जाकर पूरा हो गया है. भक्त भी इन दिनों भगवान गणेश की प्रतिमाओ का विसर्जन कुण्ड मे ही लाकर कर रहे हैं.

इससे न केवल समाज मे एक अच्छा संदेश जा रहा है बल्कि नगर निगम के कार्यो की भी सराहना हो रही है. कुण्ड का निर्माण पूर्ण हो जाने के बाद अब नर्मदा में किसी भी तरह से प्रतिमाओ का विसर्जन नही होगा और काफी हद तक नर्मदा को प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी.