राजस्थान की राजधानी में 5 लोगों की सामूहिक आत्महत्या मामले में गुरुवार को नया मोड़ आ गया. जयपुर पुलिस ने महंत बाबा विशंभर दास को परिवार को आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोपों के बाद हिरासत में ले लिया है.

करधनी थाना इलाके में बुधवार को एक प्रोपर्टी कारोबारी के पूरे परिवार के साथ आत्महत्या कर ली थी. सुसाइड नोट में कारोबारी ने बाबा विशंभर दास पर बड़ी रकम उधार लेने और फिर नहीं लौटाने के आरोप लगाए हैं. इसी सुसाइड नोट के बाद मृतक डूंगरराम के भाई नथमल ने बाबा विशंभर दार के खिलाफ मामला दर्ज कराया था.

करधनी थाना पुलिस के अनुसार मामला दर्ज होने के बाद बाबा को हिरासत में लिया गया है. फिलहाल बाबा से थाने में उससे पूछताछ की जा रही है. बताया जा रहा है कि पूछताछ के बाद करधनी थाने में शाम तक विशंभर दास की गिरफ्तारी भी हो सकती है.

बाबा ने बचने को तोड़ कर फेंक दी मोबाइल सिम

पुलिस हिरासत में लिए जाने से पहले ही बाबा विशंभर दास को मामले में फंसने का अंदेशा हो गया था. कहा जा रहा है कि बाबा ने अपने मोबाइल की सिम भी तोड़ कर फेंक दी है. यह वही सिम थी जिसके नंबर का उल्लेख डूंगरराम ने अपने सुसाइड नोट में किया था.