लखनऊ
एटा में सोमवार को सिरफिरे सिक्यॉरिटी गार्ड ने शराब के नशे में अपनी लाइसेंसी बंदूक से ताबड़तोड़ फायरिंग की। इससे घर के बाहर खेल रहे 2 मासूम बच्चों की मौके पर ही मौत हो गई वहीं एक बच्चा गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना से पूरे इलाके में दहशत का माहौल है। मौके पर पहुंची पुलिस ने गार्ड को गिरफ्तार कर उसकी बंदूक कब्जे में ले ली है। इस सनसनीखेज घटना की जानकारी पर पहुंचे एसएसपी सहित आला अफसर देर रात तक मौके पर डेरा जमाए थे।

यह वारदात जसरथपुर (एटा) थाना क्षेत्र के देवतरिया गांव में हुई। जसरथपुर गांव में रहने वाला छोटेलाल दिल्ली में सिक्यॉरिटी गार्ड की नौकरी करता है। छुट्टी पर रविवार को वह गांव आया था। सोमवार को दोपहर करीब चार बजे छोटेलाल उसी गांव में रहने वाले इदरीश के घर के पास साथियों के साथ शराब पी रहा था। एटा के अडिशनल एसपी संजय कुमार ने बताया कि शराब पीने के दौरान छोटेलाल गाली-गलौच कर रहा था। तभी इदरीश की पत्नी घर से बाहर निकली तो छोटेलाल ने उससे पानी मांगा। इदरीश की पत्नी ने यह कहते हुए पानी देने से मना कर दिया कि वह गाली-गलौच न करे। इसको लेकर छोटेलाल ने इदरीश की पत्नी को भला बुरा कहना शुरू कर दिया और वहीं रखी अपनी लाइसेंसी डीबीबीएल बंदूक उठा कर उसे गोली मारने की धमकी दी।

छोटेलाल को बंदूक उठाते देख इदरीश की पत्नी शोर मचाते हुए घर के अंदर भागी लेकिन नशे में धुत छोटेलाल ने बंदूक से फायरिंग शुरू कर दी। गोली घर के बाहर खेल रही इदरीश की 6 साल की बेटी गुलबसा, 3 साल के बेटे शान मोहम्मद और पड़ोसी महबूब की 5 साल की बेटी सोनी को लगी। गोली लगने से गुलबसा और शान मोहम्मद की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि सोनी गंभीर रूप से घायल हो गई।

घटना के बाद भाग रहे छोटेलाल ने पीछा करने वाले ग्रामीणों पर भी फायरिंग की लेकिन ग्रामीणों ने उसे धर दबोचा और उसकी धुनाई करने के बाद घटना की सूचना पुलिस को दी। साथ ही जख्मी सोनी को इलाज के लिए जिला अस्पताल भेजा। जसरथपुर थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई। ग्रामीणों ने गार्ड और घटना में प्रयुक्त उसकी लाइसेंसी बंदूक पुलिस के हवाले कर दी। पुलिस ने दोनों बच्चों की लाशों का पंचनामा भर उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।