अमेरिका के बर्कले में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिर्फोनिया में भाषण देने पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भारत में चल रहे कई अहम मुद्दों का जिक्र किया। राहुल गांधी हिंसा पर गंभीरता से ध्यान दिया और कहा कि भारत में आज नफरत और हिंसा की राजनीति चल रही है। उन्होंने कहा कि हिंसा का दर्द वे खूब समझते हैं, क्योंकि उन्होंने इसी वजह से अपनी दादी और पिता को खोया है।

राहुल गांधी ने कहा, ''मेरी दादी और पिता को मैंने खोया है और मुझे पता है कि हिंसा से क्या नुकसान हो सकता है। किसी भी व्यक्ति के खिलाफ हिंसा होनी गलत बात है।''  उन्होंने कहा, '' जब आप अपने लोगों को खोते हो, तो आपको गहरी चोट लगती है।

राहुल ने कहा कि सांप्रदायिक ताकतें मजबूत हो रही हैं। उन्होंने बीजेपी पर भी निशाना साधा और कहा कि बीजेपी उनके खिलाफ एजेंडा चला रही है।

अपने भाषण में राहुल गांधी ने पीएम मोदी की तारीफ की और कहा कि मोदी मेरे से अच्छा बोलते हैं। लोगों तक अपना संदेश पहुंचाने में माहिर हैं, लेकिन वे अपनी ही पार्टी बीजेपी के नेताओं की सुनते भी नहीं हैं।

कश्मीर मुद्दे पर बीजेपी को घेरा
राहुल ने मुताबिक कश्मीर में साल 2013 में आतंकवाद काफी हाई लेवल पर था, जिसके बाद उन्होंने तत्काली पीएम मनमोहन सिंह के साथ इसे कम करने के लिए काम करना शुरू किया। राहुल ने मनमोहन की तारीफ की और कहा कि आपकी सबसे बड़ी सफलता कश्मीर से आतंकवाद को कम करना है।

साल 2013 में ये हालात थे कि उनके पास सुरक्षाकर्मी नहीं लोग खड़े होते थे, लेकिन आज जब सुरक्षाकर्मियों को अपने साथ खड़ा देखता हूं तो समझ आता है कि यहां हालात बद से बदतर हैं। वहीं पीडीपी और एनडीए के गठबंधन पर भी राहुल ने नाराजगी जताई।

उन्होंने कहा कि पीडीपी ने लोगों को राजनीति में लाने के लिए काम किया था, लेकिन जब से एनडीए से गठबंधन किया है ये मुहिम खत्म हो गई है। ये साफ है कि लोग आतंकवाद की तरफ रूख कर रहे हैं। बीजेपी अपने राजीनिक एजेंडे के लिए कश्मीर को नुकसान पहुंचा रही है।

पीएम मोदी की वजह से सूचना का अधिकार खत्म
राहुल गांधी ने कहा कि देश में कंप्यूटर लाने पर पूर्व पीएम राहुल गांधी का विरोध किया गया था। बीजेपी के जो नेता बाद में पीएम बने थे, उन्होंने भी कंप्यूटर का विरोध किया था, लेकिन देश ने विकास किया।
सूचना के अधिकार को राहुल ने लगभग खत्म बताया है और कहा कि पीएम मोदी ने राइट टू इंफोर्मेशन को खत्म कर दिया है। जब कांग्रेस की सरकार थी लोगों को सरकार के बारे में पता होता था, लेकिन अब ऐसा नहीं है।

नोटबंदी से अर्थव्यवस्था की रफ्तार थमी
उन्होंने सबसे पहले देश की गिरती जीडीपी पर चिंता जताई और कहा कि नोटबंदी की वजह से देश की अर्थव्यवस्था की रफ्तार धीमी पड़ गई है। उनके मुताबिक जीडीपी करीब 2 फीसदी कर गिर गई है। भारत की तारीफ करते हुए राहुल ने कहा कि दुनिया में शायद ही ऐसा कोई देश होगा, जहां लोग गरीबी को पछाड़ कर आगे बढ़े हो।