मध्यप्रदेश पुलिस के इतिहास में पहली बार पेट्रोलिंग व्यवस्था से महिला पुलिसकर्मियों को जोड़ा गया है. अब महिला पुलिसकर्मी भी पुरूषों की तरह दो पहिया वाहनों से पेट्रोलिंग करेंगी. निजी कंपनी ने पुलिस मुख्यालय को पेट्रोलिंग के लिए बिना गियर वाले 80 स्कूटर मुहैया कराए हैं. इन स्कूटरों पर महिला पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है.

जानकारी के अनुसार महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों जैेसे छेड़छाड़, चेन स्नेचिंग की रोकथाम के लिए खासतौर पर महिला कर्मियों को पेट्रोलिंग ड्यूटी से जोड़ा गया है. पेट्रोलिंग वाहनों को भोपाल के साथ जबलपुर, इंदौर और ग्वालियर में तैनात किया गया है. इससे पह​ले तक महिला पुलिस कर्मियों की ड्यूटी महिला थानों पर और कभी-कभार ट्रैफिक कंट्रोल के लिए लगाई जाती रही है. इसके अलावा महिलाओं से जुड़े अपराध होने पर उसकी विवेचना के काम में भी इन्हें लगाया जाता रहा है. यह पहली बार है, जब महिलाओं को मैदानी अमले में नई भूमिका में शामिल किया जा रहा है.

खास बात यह है कि यह पेट्रोलिंग वाहन राज्य महिला अपराध शाखा के अंतर्गत काम करेंगे. सभी वाहनों को पुलिस संसाधनों से लैस किया गया है. सभी स्कूटरों को शहर के चिन्हित स्थानों पर पेट्रोलिंग के लिए लगाया गया है. इन टू व्हीलर को गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह हरी झंडी दिखाकर मंगलवार को अपने-अपने स्थानों पर रवाना करेंगे.