पंडालों में देवी स्थापना 21 सितंबर को
रायपुर।
प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी क्वांर नवरात्रि की तैयारियां मंदिरों में प्रारंभ हो गई है। माता देवालयों में रंगरोगन का कार्य शुरू हो गया है। महामाया मंदिर के पुजारी पंडित मनोज शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि आश्विन प्रतिपदा शुक्ल पक्ष के प्रथम दिवस नवरात्रि 21 सितंबर को सुबह 11.20 बजे पर घट स्थापना, कलश स्थापना कर प्रारंभ होगी। आकर्षक  देवी स्थापना के दौरान माता के साज श्रृंगार के लिए शहर के विभिन्न पंडालों में माता का पर्व धूमधाम से मनाने के लिए शामियाने बनाने का काम विभिन्न दुर्गोत्सव समितियों द्वारा प्रारंभ कर दिया गया है। 

ज्ञातव्य है कि छत्तीसगढ़ में महामाया मंदिर पुरानी बस्ती, दंतेश्वरी मंदिर कुशालपुर, कालीमाता मंदिर महादेवघाट, आकाशवाणी, कंकालीमाता मंदिर कंकालीपारा, मौलीमाता मंदिर तेलीबांधा, बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़ महामाया मंदिर रतनपुर, दंतेश्वरी मंदिर दंतेवाड़ा, चंद्रहासिनी मंदिर चंद्रपुर, सम्लेश्वरी मंदिर सारंगढ़,  दुर्गा मंदिर झलमला, बिलईमाता धमतरी सहित प्रदेश में सभी नए पुराने मंदिरों में श्रद्धालुओं द्वारा नवरात्रि पर्व धूमधाम से मनाए जाने की सूचना हमारे संवाददाताओं से मिली है। उल्लेखनीय है कि इस बार नवरात्रि पर्व 21 सितंबर से प्रारंभ होकर 29 सितंबर को नवमीं तिथि पर समाप्त होगा। तिथियों की घट-बढ़ नहीं होने से इस बार नवरात्रि पूरे नौ दिनों की है।