सरदार सरोवर बाँध के गेट लगाने के विरोध में बड़वानी जिले के ग्राम बड़ादा में मेधा पाटकर सहित सैकड़ों डूब प्रभावितों ने जल सत्याग्रह शुरू कर दिया है.

आज तीसरे दिन आंदोलनकारियों की मांग है कि जब तक पूर्ण पुनर्वास नहीं किया जाता तब तक बाँध में पानी नहीं भरा जाए और गाँवों को ना डुबोया जाए.

डूब प्रभावितों ने ग्राम बडदा में जल सत्याग्रह कर विरोध दर्ज कराया है और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. हालाकि नर्मदा का जल स्तर 129 मीटर पर पहुँचने के बाद स्थिर हो गया है और जल स्तर बढ़ नहीं रहा है.

इससे पहले नर्मदा का जलस्तर लगातार बढने से धार के सरदार सरोवर डूब प्रभावित गाँव धीरे धीरे जलमग्न होने लगी थी. लोग यहाँ से अन्य स्थानो पर शिफ्ट हो रहे हैं. कुछ लोग अभी भी यहाँ डटे हुए है और वे सरकार पर मुआवजा न देने के आरोप लगा रहे हैं. लोगों का यह भी कहना है कि पुर्नवास स्थलों पर सडक, पानी, बिजली जैसी बुनियादी सुविधाओ की स्थिति ठीक नही है.