मिनी मुंबई के नाम से मशहूर मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में फ्रांस से आई युवती छेड़छाड़ का शिकार हो गई. पहले तो 27 किलोमीटर दूर छोड़ने के लिए ओला कैब के चालक ने सात हजार रुपए मांगे. इतने ज्यादा पैसे देने से मना किया तो बीच रस्ते पर ही सूनसान इलाके में ही छोड़ दिया.

इसके बाद मनचलों ने युवती को देख छेड़छाड़ शुरू कर दी. मामले की भनक लगते ही गस्त पर मौजूद पलासिया थाना प्रभारी धैर्यशील येवले ठाणे के बल सहित पहुंचे.

दरसअल स्टूडेंट्स एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत आईआईएम इंदौर में स्टडी के लिए फ्रांस से आई एक युवती और दो युवक शॉपिंग के लिए विजय नगर गए थे. रात 12 बजे वहां से वापस 27 किमी आईआईएम जाने के लिए वे कैब में बैठे. ड्राइवर से किराया पूछा तो उसने 7 हजार रुपए बताया.

इतना ज्यादा किराया देने से इनकार किया तो ड्राइवर इंडस्ट्री हाउस के सामने उन्हें छोड़कर भाग गया. तभी विदेशी युवती को सड़क पर देख वहां से गुजर रहे कुछ नशेड़ी युवक छेड़छाड़ करने लगे.

पलासिया टीआई को इसकी जानकारी लगी तो वे मौके पर पहुंचे और खुद ऑटो का किराया देकर उन्हें आईआईएम कैंपस तक सुरक्षित पहुंचाया. पुलिस की मदद पाकर स्टूडेंट्स ने टीआई और जवानों को सैल्यूट कर उनका अभिवादन किया.

जानकारी के अनुसार 20 साल की युवती लूरा ग्रुजेल अपने दो साथी युवकों इमिलिएन जॉनी और सायबवेन क्रिस्टेन के साथ फ्रांस से यहां स्टडी टूर पर आई है. तीनों रात करीब 12 बजे इंडस्ट्री हाउस के पास खड़े थे, तभी एमआईजी की ओर से बाइक से आए तीन युवकों ने छेड़छाड़ शुरू कर दी, लेकिन वे हिंदी नहीं समझे और बार-बार आईआईएम जाने के लिए रास्ता पूछते रहे.

इस दौरान नशेड़ी युवक उन्हें परेशान करते रहे. जब उन्हें खतरा महसूस हुआ तो एक स्टूडेंट ने सड़क पर आकर राहगीरों से मदद की गुहार लगाने लगा. जैसे ही यह जानकारी पलासिया टीआई धैर्यशील येवले को लगी तो वे एसआई मिलिंद सुलिया और आरसी राठौर को लेकर मौके पर पहुंचे और विदेशी युवती समेत दो अन्य युवकों को आईआईएम कॉलेज ऑटो से भिजवाया. ऑटो का भाड़ा चार सौ रुपए भी थाना प्रभारी ने खुद चुकाए.
पुलिस अब शहर में लगे तमाम सीसीटीवी के आधार पर उस ओला कैब चालक की तलाश कर रही है.