विपस्यना से लौटते ही चेन्नई दौरे पर केजरीवाल, कमल हासन से करेंगे मुलाकात

नई दिल्ली
नौ दिनों तक महाराष्ट्र के इगतपुरी मेडिटेशन करने के बाद मंगलवार को दिल्ली लौटे मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल गुरुवार को सुपरस्टार कमल हासन से मिलने चेन्नै जाने वाले हैं। जिस समय यह मुलाकात हो रही है, वह काफी महत्वपूर्ण है। लंबे समय से कमल हसन के राजनीति में आने की बात हो रही है। ऐसे में केजरीवाल का उनसे मिलना काफी मायने रखता है। अटकलें लगाई जा रही हैं कि इस मुलाकात के जरिए केजरीवाल तमिलनाडु में राजनीतिक तलाश रहे हैं।

मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने केजरीवाल की यात्रा की पुष्टि करते हुए बताया कि यह उनकी आधिकारिक यात्रा है। एक दिन की यात्रा के दौरान केजरीवाल चेन्नै स्थित तमिलनाडु सरकार के विश्वस्तरीय कौशल विकास केंद्र का दौरा करेंगे। अधिकारी ने केजरीवाल की हासन से मुलाकात की भी पुष्टि की है। विश्वस्त सूत्रों से जानकारी मिली है कि कमल हासन अरविंद केजरीवाल से मिलना चाहते हैं। बताया जा रहा है कि एक फोन कॉल के बाद दोनों की मुलाकात की भूमिका बनी। सूत्रों का कहना है कि इस दौरान दिल्ली के सीएम और कमल हासन दोपहर के खाने पर चर्चा करेंगे।

जानकारों का मानना है कि कमल हसन के दिमाग में क्या चल रहा है, अभी यह कोई भी नहीं जानता है। ऐसे में इस मुलाकात के नतीजों के बारे में कुछ भी कहना काफी जल्दबाजी होगी। अटकलें तो यह भी लगाई जा रही हैं कि यदि कमल हासन अलग पार्टी बनाएंगे तो आम आदमी पार्टी उनकी सहयोगी हो सकती है। यहां यह भी बताना जरूरी है कि कमल हासन इस महीने की शुरुआत में केरल के सीएम पी विजयन से भी मुलाकात कर चुके हैं।

फिलहाल आम आदमी पार्टी की चेन्नै में पार्टी युनिट है। साथ ही केजरीवाल के चेन्नै जाने के लेकर भी सूत्रों का कहना है कि वह भी अपनी पार्टी को देश के दक्षिणी हिस्से में फैलाना चाहते हैं। आम आदमी पार्टी दिल्ली के बाहर भी अपनी धमक का एहसास कराना चाहती है। ऐसे में चेन्नै में केजरीवाल और कमल हासन की मुलाकात नए अध्याय की शुरुआत भी हो सकती है।

आम आदमी पार्टी ने पिछले दिनों गोवा और पंजाब में भी विधान सभा चुनावों में हाथ आजमाया था। गोवा में भले ही पार्टी को कोई खास रेस्पॉन्स न मिला हो, लेकिन पंजाब में राज्य की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी के तौर पर उभरी है। आम आदमी पार्टी अब गुजरात में कुछ सीमित सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। कमल हासन के साथ दिल्ली के सीएम की मुलाकत देश भर में उनकी पार्टी की मौजूदगी का अहसास करा सकती है।