बारां जिले के मंडोला गांव स्थित राजकीय माध्यमिक विद्यालय के बच्चों की दूषित खाना खाने से तबीयत बिगड़ गई. करीब 56 प्रभावित स्कूली बच्चों को बारां जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कुछ बच्चों का गांव के ही अस्पताल में प्राथमिक उपचार किया जा रहा है.

मडोला में ही आटे की एजेंसी चलाने वाले रमेश साबू ने कल केलवाड़ा सीताबाड़ी में भोज का आयोजन कराया था. भोज से बचाकर लाया गया खाना उसने अपनी एजेंसी के पास स्थित स्कूल के बच्चों को खिला दिया. करीब सौ बच्चों ने यह खाना खाया और इनमें से करीबन 70 बच्चों को कुछ देर बाद पेट दर्द और उल्टी शुरू हो गई.

अचानक बच्चों की तबीयत बिगड़ने की सूचना मिलते ही प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए. जानकारी मिलते ही ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी और चिकित्सा टीम ने तत्काल मौके पर पहुंचकर बच्चों का उपचार शुरू कर दिया. वहीं जिला अस्पताल में पीएमओ ने व्यवस्था संभाली.

कई एम्बुलेंसों की मदद से 42 बच्चों को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. इनमें से 21 बच्चों की हालत बिगड़ने से उन्हें आईसीयू में रखा गया है. कुछ बच्चों के परिजन उन्हें निजी अस्पतालों में भी ले गए हैं. स्कूल के भीतर भी डॉक्टरों की एक टीम बच्चों का इलाज कर रही है. डॉक्टरों की माने तो फ़िलहाल हालात काबू में हैं और जल्द ही उपचार के बाद बच्चों को छुट्टी दे दी जाएगी.

पूरे मामले में व्यवसायी और स्कूल प्रशासन की लापरवाही सामने आ रही है. व्यापारी ने कल शाम को बना हुआ खाना आज दोपहर 12 बजे बच्चों को खिला दिया. खाना खाने इतनी बड़ी संख्या में बच्चे स्कूल से बाहर गए और प्रधानाचार्य सहित अन्य किसी शिक्षक इस ओर ध्यान क्यों नहीं दिया.