मध्य प्रदेश के शहडोल जिला पंचायत अध्यक्ष नरेंद्र मरावी धरना स्थल पर अचानक रो पड़े. नरेंद्र मरावी जिला प्रशासन के अधिकारियों पर भ्रष्टाचार और तानाशाही का आरोप लगाते हुए पिछले चार दिनों से धरना दे रहे है. जिला पंचायत अध्यक्ष होने के नाते नरेंद्र मरावी को राज्य मंत्री का दर्जा हासिल है.

शहडोल में भाजपा के वरिष्ठ नेता नरेंद्र मरावी का आरोप है कि जिला पंचायत अध्यक्ष होने के बाद भी जनता की सेवा अधिकारियों की तानाशाही के चलते नहीं कर पा रहे है. इस बात का जिक्र करते हुए मरावी शनिवार सुबह धरना स्थल पर ही रो पड़े.

मरावी ने जिला पंचायत शहडोल के अध्यक्ष होने का दुख जताया. उन्होंने कहा कि अध्यक्ष की जगह अगर वे चपरासी होते तो कम से कम जिला पंचायत में अपनी समस्या लेकर आने वाले आम लोगों को वे पानी तो पिला सकते थे.

भ्रष्टाचार के खिलाफ हो रहे इस धरना-प्रदर्शन में कांग्रेस के ब्यौहारी विधायक रामपाल भी पहुंचे. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने की वजह से वह भाजपा विधायक का समर्थन कर रहे है