राजस्थान महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा मंगलवार को जयपुर के जवाहर कला केन्द्र में 'चिराली-साथ सदा के लिए' योजना का लोकार्पण किया गया.

चिराली योजना के तहत गांवों में महिला सुरक्षा के लिए वॉलिन्टियर्स लगाए जाएंगे और महिलाओं के प्रेशर ग्रुप बनाए जाएंगे. योजना की शुरूआत सबसे पहले 7 जिलों बासंवाड़ा, भीलवाड़ा, बूंदी, जालौर, झालावाड़, नागौर और प्रतापगढ़ में की जाएगी.

इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री अनिता भदेल ने कहा कि महिला हिंसा की रोकथाम के लिए राज्य सरकार की पहल के रूप में 'चिराली' योजना शुरू की गई है. महिलाओं की स्थिति समाज में बेहतर करने के लिए यह योजना कारगर साबित होगी.

उन्होंने कहा कि योजना के माध्यम से बने प्रेशर ग्रुप गांव में महिलाओं पर होने वाली हिंसा और कुरीतियों को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी. साथ ही समझाइश से न मानने पर कानूनी प्रावधान का भी प्रयोग किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि प्रत्येक योजना के सफल क्रियान्वयन के जनसहभागिता आवश्यक है, चिराली योजना में जनता ही मिलकर अन्य साथियों को महिला सुरक्षा के लिए जागरुक करेगी.

इस अवसर पर राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने कहा कि गांवों में जागरूकता की कमी के कारण महिलाओं पर अनेक अत्याचार होते हैं. चिराली योजना के माध्यम से प्रेशर ग्रुप जनता को जागरूक करेंगे, जिससे महिला हिंसा के रोकथाम में मदद मिलेगी.

इससे पहले मंत्री भदेल ने 'चिराली' योजना के पोस्टर और ब्रॉशर का लोकार्पण किया.