राजस्थान के चूरू जिले में 20 सितंबर से गुमशुदा एक 37 वर्षीय युवती का शव 7 दिन बाद गुरुवार को एक खेत में बरामद हुआ है. शव जमीन में 5 फीट नीचे दफनाया हुआ था. जबकि युवती का पति भी 5 दिन से लापता है.

जानकारी के अनुवसार 20 सितम्बर को चूरू जिले के गांव ढाढरिया चारणान से लापता हुई 37 वर्षीय विवाहिता का शव गुरुवार को ढाढरिया बणीरोतान के खेत में मिला. शव दो फीट चौडे़ और पांच फीट गहरे गड्ढ़े में दफन किया हुआ था. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने गड़ाढा खोदकर शव को बाहर निकाला और चूरू के राजकीय डीबी अस्पताल की मोर्चरी में रखवा मेडिकल बोर्ड से पोस्टमॉर्टम करवाया है.

लापता पति पर हत्या का मुकदमा दर्ज

मृतका तीजू देवी के भाई ने अपने बहनोई रामूराम के खिलाफ रतननगर थाने में हत्या का मामला दर्ज करवाया है. मृतका की शादी 16 साल पहले गांव फोगा आरोपी रामूराम के साथ हुई थी और इनके तीन सन्तान भी है. पुलिस प्रथमदृष्टया हत्या का कारण पति-पत्नी के आपसी मनमुटाव को मान रही है. बहरहाल पुलिस ने मृतका का पोस्टमार्टम कर आरोपी पति की तलाश शुरू कर दी है.

यह है पूरा घटनाक्रम

रतननगर थानाधिकारी पुष्पेन्द्र सिंह ने बताया कि 25 सितम्बर को रतननगर थाने में मृतका तीजूदेवी और उसके पति रामूराम के लापता होने की गुमशुदगी दर्ज करवाई गई थी. जिसके अनुसार तीजूदेवी 20 सितम्बर को अपने घर से लापता हो गई थी. उसके दो दिन बाद 22 सितम्बर को उसका पति रामूराम भी अपनी पत्नी की तलाश में जाने की कहकर घर से निकल गया. 25 सितम्बर को रामूराम के भाई ने रतननगर थाने में दोनों की गुमशुदगी दर्ज करवाई गई.

ऐसे मिला शव

तीजूदेवी के भाईयों ने भी अपनी बहन की तलाश शुरू की, इस दौरान उन्होंने गांव ढाढरिया बणीरोतान में पदचिन्हों का पीछा कर उस खेत की भी तलाशी ली जहां दोनों पति-पत्नी रहा करते थे. तलाशी के दौरान खेत में एक जगह मिट्टी खुदी हुई दिखी जिसे पत्तों और कचरे से ढककर ऊपर खटिया बिछा दी गई थी. शक होने पर मृतका के भाई ने पुलिस को ईत्तला दी, जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों की सहायता से उस जगह को खोदना शुरू किया. मौके से मृतका का दफन शव बरामद हुआ. पुलिस ने बताया कि मृतका के सिर के पीछे चोट के निशान हैं तथा उसका एक हाथ भी अलग पाया गया है.