व्यापार में आ रही बाधाओं से परेशान हैं तो जीविका कमाने की हर समस्या को दूर करेंगे ये उपाय। जिन व्यापारियों का व्यापार चलते-चलते ठप्प हो गया हो, लाख प्रयत्न करने के बाद भी नहीं चल रहा हो और किए-कराए काम या व्यापार में बाधा होने की शंका हो, तो प्रत्येक मंगलवार को 11 पीपल के पत्ते लें। उनको गंगा जल से अच्छी तरह धो कर लाल चंदन से हर पत्ते पर सात बार राम-राम लिख कर हनुमानजी के मंदिर में चढ़ा आएं तथा प्रसाद बांटे और इस मंत्र का जाप जितना कर सकते हैं करें। 


यह मंत्र है- ‘जय जय जय हनुमान गोसाई कृपा करो गुरु देव की नाईं’। उपाय को सात मंगलवार लगातार करें। अगर हो सके तो इसे गुप्त रखें।

 

यदि वाद-विवाद एवं दुर्घटना आदि के कारण धन का अपव्यय हो रहा हो तो शनिवार के दिन आटे का दीपक बनाकर सरसों के तेल में रूई की बत्ती डालकर संध्या के समय पीपल के वृक्ष के पास जलाना चाहिए। यदि पीपल का वृक्ष एकांत में हो तो यह उपाय करने से आकस्मिक धन-हानि की स्थिति से छुटकारा मिल जाता है। यह प्रयोग कम से कम 7 बार अवश्य करना चाहिए। 


शनिवार को गौ माता को आटा व गुड़ खिलाएं।
 

धन-धान्य के लिए गेहूं पिसवाते समय उसमें केसर के दो दाने और ग्यारह तुलसी के पत्ते डाले जाएं तो धन की कमी नहीं होती तथा शांति बनी रहती है। 


यदि आपको अकस्मात धन की प्राप्ति हो तो उसमें कुछ भाग परिवार की विवाहित स्त्रियों को दानस्वरूप देना चाहिए। अन्यथा आपको अनेक प्रकार के शारीरिक कष्टों का सामना करना पड़ेगा।