धीमी गति से संचार करने वाला ग्रह शनि 26 अक्तूबर को शाम 3.26 बजे पुन: धनु राशि में आ रहे हैं। इस राशि में शनि का संचार 24 जनवरी 2020 तक चलेगा। ज्योतिषी संजय चौधरी के अनुसार शनि मनुष्य को कर्मों के अनुसार फल देते हैं। शनि हमेशा मेहनत करने वालों को पुरस्कृत करते हैं। उन्होंने कहा कि नाड़ी शास्त्र के अनुसार शनि भारतीय गणतंत्र कुंडली के 8वें घर में आएंगे, जिसे कि अच्छा नहीं समझा जाता। 


उन्होंने कहा कि भारत को वैसे भी अगस्त 2018 तक चंद्रमा महादशा में राहु की अन्तर्दशा चलनी है, जिस कारण जनता में केन्द्र सरकार की नीतियों को लेकर सामान्यत: असंतोष पाया जाएगा। देश में आर्थिक संकट और गहरा सकता है। सरकार के आर्थिक फैसले न्यायिक प्रणाली के विचाराधीन आ सकते हैं तथा अदालत जनता को कुछ राहत भी दे सकती है।


पड़ोसी देशों के साथ आपसी संबंधों में कटुता का माहौल रहेगा। उन्होंने कहा कि तमिलनाडु की राजनीति में प्रमुख उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे। बृहस्पति तथा शनि के संयुक्त प्रभावों के कारण देश में रीयल एस्टेट सैक्टर में कुछ सुधार देखने को मिलेगा। केन्द्र में राजग के साथ गठजोड़ में शामिल दलों के साथ मतभेद उभर सामने आ सकते हैं। एक कैबिनेट मंत्री के समक्ष संकट गहराएगा जबकि एक विपक्षी नेता को भी स्वास्थ्य संबंधी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा।