समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में अखिलेश यादव को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुन लिया गया. इतना ही नहीं संविधान में संशोधन करते हुए पार्टी ने उनका कार्यकाल पांच साल तक बढ़ा दिया है.

अध्यक्ष चुने जाने के बाद अखिलेश यादव ने विरोधियों खासकर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. केंद्र सरकार पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी ने व्यापारियों को तबाह कर दिया. उन्होंने कहा कि देश के हालात किसी से छिपे नहीं हैं. देश के सामने इस समय सबसे बड़ा संकट है. इस संकट से मिलकर लड़ना है.

अखिलेश ने कहा, "बीजेपी लगातार झूठ बोल रही है. बीजेपी के झूठ से देश को बचाना है. इस समय समाजवादी पार्टी के सामने सबसे बड़ी जिम्मेदारी साम्प्रदायिक ताकतों से लड़ने की है."

इससे पहले अखिलेश ने कहा, "हमने इस बीच नेता जी से कई बार बात की. हम चाहते थे कि नेता जी आएं. आज सुबह ही नेता जी ने फोन पर आशीर्वाद दिया है. नेता जी ने समाजवादी पार्टी के लिए भी शुभकामनाएं दी हैं."

इस बीच लखनऊ में भी मुलायम सिंह के सरकारी आवास पर हलचल देखने को मिली. शिवपाल यादव और नारद राय की मुलाकात चल रही है.

कहा जा रहा है कि ये तीनों नेता भी आगरा अधिवेशन में शामिल हो सकते हैं. मंशा यही है कि जनता के बीच एकता का संदेश जाए.