दिवाली पर सुविधाएं देने के नाम पर भारतीय रेल मुसाफिरों की जेब काटने की तैयारी कर चुकी है. दिवाली पर मुंबई से पटना के लिए चलने वाली सुविधा एक्‍सप्रेस स्‍पेशल ट्रेन का किराया हवाई जहाज के किराए से भी ऊपर पहुंच गया है.

17 अक्‍तूबर को जहां कई एयरलाइंस‍ का किराया मुंबई से पटना के लिए करीब 7500 रुपये से 9200 रुपये के बीच है, जबकि इस एक्‍सप्रेस में एसी-2 का किराया- 9135 रुपये है और एसी-3 का किराया 6404 रुपये है.

भारतीय रेल की इस सेवा से न केवल मुसाफिर हतप्रभ हैं बल्कि उनमें नाराजगी भी है. सुविधा देने के नाम पर भारतीय रेल लोगों का दिवाला निकाल रहा है.

बता दें कि ट्रेन के किराए में एकाएक इतनी बढ़ोत्‍तरी रेलवे के डायनेमिक फेयर की वजह से हो रही है. इसमें ट्रेन में मांग बढ़ने के साथ ही किराया बढ़ता रहता है, जो कि मूल किराये से तीन गुना तक जा सकता है.



साथ ही डायनेमिक चार्ज और तत्काल चार्ज की वजह से सुविधा स्पेशल ट्रेनों का किराया हवाई किराये से भी ज्‍यादा हो जाता है. यही नहीं त्यौहारों पर भारतीय रेल ने जितनी स्पेशल ट्रेन चलाई है उनका किराया सामान्य किराये से 30 फीसदी तक ज्यादा है. लेकिन ट्रेनों के समय पर चलने की कोई गारंटी नहीं है.

गौरतलब है कि 17 अक्‍तूबर को ही सामान्य सुपरफास्ट ट्रेन के किराये की तुलना करें तो मुंबई से पटना के बीच एसी-2 का किराया 2565 रुपये जबकि एसी-3 का किराया 1760 रुपये है. यानि त्यौहारों पर दी जा रही सुविधा के नाम पर मुसाफिरों की जेब पर भारतीय रेल ने बड़ी कैंची चलाई है.