केन्द्र सरकार की ओर से पेट्रोल, डीजल के उत्पाद शुल्क में दो रुपये प्रति लीटर की कटौती के बाद अब बीजेपी शासित राज्यों के सभी मुख्यमंत्री अपने अपने राज्यों में पेट्रोल और डीजल पर वैट कम करके जनता को बड़ी राहत दे सकती हैं. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ऐसे ही संकेत दिए है.

राजधानी भोपाल में एक कार्यक्रम के बाद संवाददाताओं से बातचीत में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि केंद्र के उत्पाद शुल्क घटाने के बाद राज्य सरकार वैट कम करने पर गंभीरता से विचार कर रही है और दिवाली से पहले प्रदेश के लोगों को राहत दी जा सकती है.

दरअसल, केंद्र चाहता है कि राज्य सरकारें भी इन ईंधनों पर लगने वाले वैट में पांच प्रतिशत की कटौती करे ताकि ग्राहकों को आगे और राहत मिले. इसके लिए धर्मेंद्र प्रधान ने राज्य सरकार से अपील भी की थी.



गौरतलब है कि केंद्र ने मंगलवार को पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 21.48 रुपये प्रति लीटर से घटाकर 19.48 रुपये प्रति लीटर तथा डीजल पर 17.33 रुपये से घटाकर 15.33 रुपये कर दिया था. जिसके बाद पेट्रोल की कीमत में लगभग 2 रुपये 50 पैसे और डीजल की कीमत में 2 रुपये 25 पैसे की कमी आई थी.
-मध्य प्रदेश में पेट्रोल पर 31 प्रतिशत
-डीजल पर 27 प्रतिशत वैट वसूला जा रहा है.
-इसके अलावा पेट्रोल पर यह 4 रुपए और डीजल पर डेढ़ रुपए अतिरिक्त कर भी सरकार वसूूल रही है.