आज शुक्रवार दी॰ 06.10.17 कार्तिक का महीना प्रारंभ हो गया है। शास्त्रों में कार्तिक मास के सर्वगुण संपन्न होने की महिमा नारायण ने ब्रह्मा को, ब्रह्मा ने नारद को व नारद ने महाराज पृथु को बताई थी। कार्तिक का महीना भगवान विष्णु, लक्ष्मी, तुलसी व शिव के साथ-साथ शिव शंकर व देवी पार्वती के पुत्र कार्तिकेय को समर्पित है। शब्द कार्तिक की उत्तपत्ति कृत्तिका नक्षत्र से हुई है। ज्योतिष शास्त्रनुसार 27 नक्षत्रों में तीसरा नक्षत्र कृत्तिका छह अग्निशिखा तारों अर्थात कृत्तिकाओं का समूह है। बालपन में इनकी देखभाल कृत्तिकाओं अर्थात सप्तर्षि की पत्नियों ने की थी। कृत्तिका नाम पर ही कार्तिकेय नाम पड़ा है। शास्त्र निर्णयामृत के अनुसार कार्तिकेय के दर्शन मात्र से ब्रह्महत्या जैसे पापों से मुक्ति मिलती है। हेमाद्रि व कृत्यरत्नाकर जैसे शास्त्रों ने ब्रह्म पुराण से इनकी व्यख्या को समझाया है। भगवान कार्तिकेय युद्ध, शक्ति व ऊर्जा के प्रतीक हैं। कार्तिक माह में इनके विशेष पूजन से कोर्ट केस में जीत मिलती है, पैसे आदि के विवाद सुलझते हैं तथा शत्रुओं पर विजय मिलती है।  

 

विशेष पूजन विधि: शिवालय जाकर भगवान कार्तिकेय का विधिवत पूजन करें। तेल के 6 दीपक दीपक जलाएं, धूप करें, सौंठ चढ़ाएं। सिंदूर से तिलक करें। बतासे का भोग लगाएं तथा इस विशेष मंत्र की 1 माला जाप करें। पूजन के बाद बतासे किसी गरीब बालक को दान दे दें।


पूजन मुहूर्त: शाम 18:02 से रात 20:50 तक।


पूजन मंत्र: ॐ तत्पुरुषाय विधमहे: महा सैन्या धीमहि तन्नो स्कंदा प्रचोदयात॥


आज का शुशाशुभ
आज का अभिजीत मुहूर्त:
दिन 11:45 से दिन 12:32 तक।


आज का गुलिक काल: प्रातः 07:47 से प्रातः 09:14 तक।


आज का यमगंड काल: शाम 15:03 से शाम 16:30 तक।


आज का अमृत काल: शाम 17:15 से शाम 18:46 तक।


आज का राहु काल: प्रातः 10:41 दिन 12:08 तक। 


यात्रा मुहूर्त: आज दिशाशूल पश्चिम व राहुकाल वास दक्षिण में है। अतः दक्षिण-पूर्व दिशा की यात्रा टालें।


आज का गुडलक ज्ञान
आज का गुडलक कलर:
फिरोजी।


आज का गुडलक दिशा: ईशान।


आज का गुडलक मंत्र: ॐ स्कंदाय नमः॥


आज का गुडलक टाइम: शाम 15:12 से शाम 16:12 तक।


आज का बर्थडे गुडलक: पैसों के विवाद सुलझाने के लिए कार्तिकेय पर सिक्के चढ़ाकर पर्स में रखें।


आज का एनिवर्सरी गुडलक: पारिवारिक विवाद से मुक्ति हेतु घर की दक्षिण दिशा में तेल के 6 दीपक जलाएं।


गुडलक महागुरु का महा टोटका: दुश्मनों पर जीत हासिल करने हेतु कार्तिकेय पर मोरपंख चढ़ाकर घर की दक्षिण दिशा में स्थापित करें।


आज के गुडलक में बस इतना ही। कल गुडलक में आपसे फिर मुलाक़ात होगी और हम आपको बताएंगे कैसे कार्तिक के महीने में नीच का सूर्य दिला सकता है सफलता।