एक बार फिर शाहरुख खान के 'अरमानों' पर बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने हथौड़ा मारा है। बीएमसी के अधिकारियों की मौजूदगी में रेड चिलीज एंटरटेनमेंट ऑफिस के एक हिस्से को तोड़ गिराया गया।

बताया जा रहा है कि शाहरुख के दफ्तर के जिस हिस्से को तुड़वाया गया वह तथाकथित तौर पर गैर कानूनी तरीके से खड़ा किया गया था। यह ऑफिस मुंबई में गोरेगांव के डीएलएच एनक्लेव की चौथी मंजिल पर स्थित है।

इस खबर पर टिप्पणी करते हुए शाहरुख खान की टीम ने बताया, 'जिस जगह पर तोड़फड़ की गई वह रेड चिलीज एंटरटेनमेंट की प्रॉपर्टी है ही नहीं। वह एक ओपन एरिया था और हमारे कर्मचारी वहां अपने घर से लाया खाना खाते थे।' कंपनी ने इस बात से साफ इंकार किया है कि उनकी ओर से उस ओपन एरिया में कैंटीन का निर्माण कराया जा रहा था। कंपनी का कहना है कि उन्होंने जगह किराए पर ले रखी थी।

मिली जानकारी के मुताबिक बीएमसी की इस कार्रवाई में सोलर पैनल्स भी बर्बाद हो गए जो इसी ओपन एरिया में लगाए गए थे। रेड चिलीज के अधिकारियों के मुताबिक इन्हीं एनर्जी सेविंग पैनल्स के जरिये वीएफएक्स विभाग को ऊर्जा मिलती थी। कंपनी अब इस सिलसिले में कॉर्पोरेशन के साथ जल्द मीटिंग करेगी।

शाहरुख खान ने दो महीने पहले ही वीएफएक्स के काम के लिए जगह किराए पर ली थी। चश्मदीदों ने बताया कि बीएमसी ने शांतिपूर्वक अपनी कार्रवाई पूरी की और इस दौरान दूसरे पक्ष की ओर से भी कोई हंगामा या रोक-टोक नहीं की गई।

यह पहला मामला नहीं है जब बीएमसी ने शाहरुख खान की परेशानी बढ़ाई हो। साल 2015 में महानगरपालिका ने उनके बांद्रा पश्चिम में मौजूद बंगले 'मन्नत' के बाहर बने रैंप को गौरकानूनी निर्माण करार देते हुए तुड़वा दिया था।